computer learning tips for beginners in hindi

Computer सीखना क्यों जरूरी है?

Why should we learn computer?

Computer, Computer, Computer आपने इस शब्द को बहुत बार जरूर सुना होगा। और हर दिन सुनते होंगे। हो सकता है आपको इसकी जरुरत कभी ना कभी जरूर पड़ी हो। और पड़े भी क्यों ना, क्योंकि आज के समय में अधिकतम कार्य इसी की सहायता से ही तो किये जा रहे हैं। आज के समय में Computer आपको हर जगह आसानी से देखने को मिल जाएगा। इसीलिए आज के समय में इसके बारे में जानकारी रखना बहुत ही जरुरी है।

computer learning tips for beginners in hindi

अब चूँकि हम लोग 21वीं सदी में हैं तो यदि हम इसे Computer Era कहें तो शायद गलत नहीं होगा। वर्तमान और भविष्य के नजरिये से देखा जाए तो आज Computer की जानकारी वैसे तो सभी को होनी चाहिए, लेकिन विद्यार्थी वर्ग (Students Community) विशेष रूप से होना चाहिए। क्योंकि आज स्कूल या कालेजों में अधिकतर कार्य Computer के द्वारा ही किया जा रहा है। स्कूल-कालेज में हर छोटे-बड़े कार्य इसकी ही मदद से ही किये जा रहे हैं।

हालांकि मौजूदा समय में ये भी देखा जा रहा है कि विद्यार्थी वर्ग स्कूल/कालेज या किसी संस्थान से इसकी ट्रेनिंग भी ले रहे हैं जो कि एक बहुत ही अच्छी बात है। इसके अलावा भी बहुत सारे लोग है जो इसको सीखने की इच्छा रखते है और न केवल इच्छा रखते है बल्कि सीख भी रहे हैं। जो कि बहुत प्रसंसनीय है। Computer Course करने के बाद बहुत लोग अपने अपने काम में सफल भी होते है लेकिन इसमें एक बड़ा वर्ग है जो असफल भी हो जाता है जो कि एक कड़वी सच्चाई है।

वो कौन से कारण हैं जिसकी वजह से लोग असफल हो जाते हैं आज के इस पोस्ट में जानेंगे।
तो चलिए जानते हैं-

Computer सीखने व सिखाने वाले-

computer learning tips for beginners in hindi

प्रायः आपने देखा होगा कि Institution/Class में Computer सीखने के लिए Students बहुत सारे आते है जो की वाकई में बहुत अच्छा लगता है यह देखकर आभास होता है कि हमारे विद्यार्थी Computer को लेकर कितना जागरूक है ये भविष्य में जरूर कुछअच्छा करेंगे।

लेकिन कुछ समय बाद ही उस कक्षा से Students की संख्या धीरे-धीरे कम होने लगती है। क्योंकि इनमें से अधिकतर को अंग्रेजी की Problem होती है। वही कुछ को थोड़े समय के बाद ही बहुत भारी लगने लगता है कि भाई मेरे से ना हो पायेगा। वही कुछ तो केवल समय बिताने के लिए ही आते हैं उनका Computer सीखने में कोई रूचि नहीं होती है।

अब वही दूसरी तरफ कुछ ऐसा ही हाल स्कूल, कालेज व संस्थान का भी होता है इनका भी ध्यान स्टूडेंट्स पर नहीं होता है कि कौन क्या कर रहा है, कक्षा में कौन आ रहा है, कौन जा रहा है, क्या सीख रहा है, कैसे सीख रहा है, कितना सीख रहा है, क्या उसे समझ आ रहा है या नही आ रहा है इससे उन्हें कोई खास मतलब नहीं होता है। बस Month पूरा हुआ पैसा चाहिए।

Students का भी कुछ ऐसा ही हाल है उन्हें भी कोई फर्क नही पड़ता है कि क्या सीखाया जा रहा है, कितना सिखाया जा रहा है, कैसे सिखाया जा रहा है। उन्हें भी तो बस समय बीताना है। उन्हें भी इसको सीखने की कोई इच्छा ही नहीं होती है क्योंकि जब टीचर कुछ सिखाते या बताते हैं तो वो आपस में गपशप करने में ही बिजी रहते हैं।

(ध्यान दें - ये बातें किसी व्यक्ति विशेष, स्कूल/कालेज या संस्थान को नहीं कही जा रही हैं। किसी को भी ठेस पहुंचाने का मेरा कोई इरादा नहीं है, लेकिन फिर भी यदि आपमे से किसी को मेरी बातों से ठेस पहुंचा हो तो इसके लिए मैं क्षमा चाहुंगा।)
लेकिन ये सच्चाई है आप ध्यान देंगे तो आपको ऐसे टीचर और स्टूडेंट्स बहुत से मिल जायेंगे ।

अब वही कुछ Students ऐसे भी होते हैं जिनके लिए ये एक लक्ष्य की तरह होता है और वो इसे पूरा करने के लिए जान लगा देता हैं कही से भी कोई कमी न रह जाए, कही से कुछ छूट न जाये इसका वो विशेष ध्यान देते हैं। और वो अपने समय का पूर्ण उपयोग करते है और उनके इसी लगन को देखकर टीचर भी उनकी पूरी मदद करते हैं।

आज हमारे देश में शिक्षा को बेहतर बनाने के लाखो प्रयत्न किये जा रहे हैं लेकिन उच्च स्तर पर, निम्न स्तर पर आज भी शिक्षा की स्थिति हमारे देश में बहुत खराब है। हमारे देश में शिक्षा एक प्रकार से पैसे कमाने का व्यवसाय बन गया है। बड़े स्तर पर पढ़ाई तो अच्छी है, लेकिन उनकी फीस मध्यम वर्ग के लोग वहन नहीं कर सकते हैं जोकि एक कड़वी सच्चाई है।

चूंकि हमारा टॉपिक Computer है तो हम इसी विषय पर बात करेंगे-


Computer संस्थानों के कोर्स व समय-

computer learning tips for beginners in hindi

जैसा कि आप जानते हैं कि केवल स्कूल या कालेज के सीखा देने भर से काम नहीं चल जाता है इसलिए लोग अपने बच्चों को अधिक जानकारी हेतु Coaching/Institution में दाखिला दिलवाते हैं ताकि उनके बच्चें और अच्छे से सीख सकें।

आज Computer Institution में एक से बढ़कर एक कोर्स उपलब्ध हैं जो कि 1 Month से लेकर के 12 Months या उससे भी ज्यादे का है। अब उसमे से कुछ लोग 1 Month वाला Course करते हैं अब जरा बताइये की भला 1 Month में आप क्या सीख लेंगे। 1 Month तो आपको आते-जाते ही बीत जाएगा तो आप सीखेंगे क्या।

वही कुछ लोग 3 Months का कोर्स करते हैं । 3 महीने का समय तो Computer Basic समझते-समझते ही बीत जाएगा। उसी प्रकार 6 Months वाला और 12 Months वाला कोर्स भी बहुत लोग करने आते हैं। कम से कम 6 Months वाला या 12 Months वाला Course तो ठीक है। कम से कम आप कुछ सीख तो पायेंगे। मैं ये नहीं कहता की आप सब कुछ सीख जाएगें लेकिन ये भी नहीं कहता कि कुछ भी नहीं सीख पाएंगे। कम से कम आपको Basic Knowledge तो सीखा ही दिया जाएगा।

अब ये आपके और टीचर के ऊपर निर्भर करता है कि वो कैसे सिखाते व बताते है। और आप किस प्रकार सीखते है। क्योंकि अधिकतर Institution में हर दिन Practical नहीं कराया जाता है सप्ताह में 3 दिन Practical और 3 दिन Fundamental ये नियम अलग अलग Institution में अलग अलग भी हो सकते हैं।

6-12 महिने वाले कोर्स में अधिकतर संस्थान में पूरा नहीं कराया जाता है कुछ न कुछ छूट ही जाता है तो वही कुछ संस्थानों में इसे अन्तिम समय में तेजी के साथ पूरा कराया जाता है जो कि ज्यादातर Students को समझ ही नहीं आता है। कुछ Institution में कुछ Students सीखने के लिए आते है तो वही कुछ तो सिर्फ Certificate प्राप्त करने के लिए। लेकिन वही कुछ Institution में Course समय पर Complete करा दिया जाता है।

ऐसे में होता क्या है कि जिसने अच्छे से सीखा होता है अच्छे से Practice की होती है। और यदि वह कही किसी जॉब के लिए अप्लाई करता है तो वो कम से कम उन चीजों को तो बता ही सकता है जो उसने अच्छे से सीखा है। चूँकि वो एक फ्रेशर है इसलिए साक्षात्कार लेने वाला भी उसी से रिलेटेड सवाल पूछता है जो वो सीखकर आया होता है और एक प्रकार वो साक्षात्कार पास हो जाता है। न सिर्फ साक्षात्कार बल्कि नौकरी तक पा लेते है। लेकिन उनका क्या जिसने सिर्फ Time Pass किया होता है ऐसे लोग साक्षात्कार नहीं निकाल पाते हैं क्योंकि वे उनके सवालों के जवाब ही नहीं दे पाते हैं। ऐसे ही लोग बार-बार रिजेक्शन का सामना करते हैं। और बाद में कहते है कि मै बेरोजगार हूँ।

परिणाम

अब आप लोगों के मन में ये प्रश्न उठ रहा होगा कि ये सब आप लोगों को मैं क्यो बता रहा हूँ। तो आपको बता दूं कि जब मैं Computer सीखता था, तो प्रायः ये सब चीजें देखा करता था। और इन सबके बारे में सोचा करता था कि ये लोग क्लास करने आ रहे है या टाइम पास करने।
computer learning tips for beginners in hindi
जब मैं सीखा करता था तो उस बैच में बहुत सारे लोग आया करते थे, कुछ तो मेरे से भी पहले के थे तो वही कुछ मेरे साथ के भी थे और वही और वही बहुत लोग मेरे बाद भी आये। मतलब क्लास में ढ़ेर सारे लोग होते थे। लेकिन समय के साथ-साथ लोग धीरे-धीरे कम होते गए। 3-4 महिने का भी समय नहीं गुजरा होगा कि आधे से भी ज्यादा स्टूडेण्ट्स का अता-पता लापता हो चूका था।

और जो आते भी थे उनकी उपस्थिति लगातार की नहीं थी। यदि कभी क्लास में आ भी गए तो बजाय प्रैक्टिस करने के इधर-उधर की बातें करना और समय पूरा होने पर चले जाना यही रवैया था उनका तो मेरा मन करता था कि उनसे पुछू कि आप लोग ऐसा क्यों करते हो। लेकिन नहीं पूछता था क्योकि मैं जानता था कि क्या जवाब मिलेगा। यही कि तुमसे क्या मतलब तुम अपने काम से काम रखो ।

मैं इसलिए भी पूछना चाहता था क्योकि वो अपने ही बैच के स्टूडेंट्स थे तो जब वो नहीं आते थे तो सर भी आगे नहीं बताते थे बोलते थे कि आज तुमको बताऊ कल फिर से उनको यही चीज बताना पड़ेगा चलो कल सभी को साथ में बता दूंगा ऐसे कर करके हमारा समय बीतता जा रहा था क्योंकि उस समय मैं बहुत ही मेहनत करके किसी तरीके से फीस भरता था। इसलिए मुझे उस पैसे की कीमत पता थी। और इसलिए मुझे इसको (Computer) सीखने की जल्दी थी। क्योंकि उस समय मुझे पैसे अरेन्ज करने में बड़ा दिक्कत होता था। 30 दिन कब बीत जाए पता ही न चलें।

और जैसा कि मैने आपको बताया की छोटे संस्थानों का क्या हाल होता है। ठीक से वहां आपको सीखाया नही जाता है। क्योंकि मैने कई स्टूडेण्ट को वहां देखा जो दूसरे संस्थान को छोड़कर इसमें आये थे। तो मै उनसे पूछता था कि क्यो छोड़ दिया, क्या कारण था इत्यादि तो वे यही कहते थे कि वहां बढ़िया तरिके से नही सीखाया जा रहा था। लेकिन जब मैने उन्हें नोटिस करना शुरू किया तो मैने पाया कि वे प्रायः टाईप पास करते थे। तो मुझे इस बात का एहसास हो गया कि जहां से ये छोड़ कर यहाँ आये हैं वहाँ सिखाया तो जाता था लेकिन ये सीखते ही नहीं  थे।

computer learning tips for beginners in hindiचलिए चलते है अपनी बात पर तो कोर्स पूरा होने को था और अब संस्थान में कुल मिलाकर 4-5 लोग ही बचे थे। कही न कहीं मुझे इस बात का एहसास हो रहा था कि कही ऐसा न हो कि कोर्स अधुरा रह जाए। अब क्योकि स्टूडेण्ट्स कम थे तो सर का भी मन नही करता था। रोज वही पुराना रिपीट करो, जाओ Fundamental लिख लो इत्यादि कह कर चले जाते थे और ऐसे ही दिन बीतता गया और अन्त में वही हुआ जिसका डर था कोर्स अधूरा ही रह गया। और कुछ दिन बाद ही वो Computer Institute भी बन्द हो गया। जिसका कारण ये बताया गया की उस बिल्डिंग के ऑनर ने किराया बढ़ा दिया जो उनके बजट से बाहर था वगैरह-वगैरह।




बाद में मैंने दूसरे Computer Institute में अपना Admission लिया छूटे हुए कोर्स को पूरा करने के लिए। लेकिन वहां की फीस दोगुनी थी। और हाल वही पुराने वाले में था। इस कारण से मैंने जल्द ही उस संस्थान को भी छोड़ दिया। लेकिन उसी दौरान मेरी मुलाकात एक लड़के से हुई जो कि Computer का काफी जानकार था और जो कोर्स मेरा छूट गया था जिसे पूरा करने के लिए वहां एडमिशन लिया था वो उसमें एक्सपर्ट था।

मैंने सोचा क्यों ना बचे कोर्स को इसी की मदद से पूरा किया जाय लेकिन ऐसा हो न सका। क्योंकि वो भी कही जॉब ही करता था तो मै उसके वहां जाया करता था ताकि सीख लूँ लेकिन उसके ऑनर इस बात पर एतराज करते थे कि तुम मेरा काम करोगे की इसे सिखाओगे और उन्होने उसे मनाकर दिया ये सब बातें उसके मुझे साफ साफ बता दिया तो मैने भी सोचा की ठीक ही तो कह रहे हैं वो अपना काम करेगा कि मुझे सिखाएगा और इसे उचित न समझते हुए उसके यहां जाना छोड़ दिया।

हालाँकि उसने मेरा साथ नहीं छोड़ा क्योंकि अब हम अच्छे मित्र बन चुके थे तो उसने मेरे परेशानी को समझा और मुझे अपने साथ एक बड़े संस्थान ले गया जहां सिखाया भी जाता था और वही पर जॉब भी मिल जाता था तो उसने मेरे लिए वहां के ओनर से बात की और मुझे वहां पर As a fresher रख लिया गया।

और आज तक मैं वहीं हूँ और वो सारी चीजे मैने सीख चूका हूँ और न ही सीख चूका हूँ बल्कि कार्य भी कर रहा हूँ सैलरी क्या है कितना है ये बाते मैटर नही करती हैं क्योंकि ये आपके काम पर डिपेंड है। मैटर ये करता है कि जिस चीज के लिए आपने मेहनत की उसमें आपको कामयाबी हासिल हुई या नहीं। मैं ये नहीं कहता हूँ की मैं बहुत कामयाब हो गया हूँ। लेकिन उन चीजों को तो मैं सीख ही चूका हूँ जिसे मैं सीखना चाहता था और निरंतर प्रयास है कि और भी चीजें सीख सकूं क्योकि सीखना कभी भी बंद नहीं करना चाहिए। हालांकि मैने उसके लिए काफी दिक्कतों का सामना किया।

निष्कर्ष-

computer learning tips for beginners in hindiबात करें निष्कर्ष की तो ऊपर आपने जो भी पढ़ा उसको देखते हुए मुझे नही लगता है कि आपको निष्कर्ष बताने की जरूरत है। और रही बात निवेदन कि तो बस यही कहना चाहुँगा कि किसी भी काम को मन लगाकर करना या सीखना चाहिए चाहे आप जिस भी फिल्ड में हो आपको उसकी अधिक से अधिक जानकारी रखनी चाहिए और हमेशा उसमे नई-नई चीजों के बारे में जानकारी खोजनी चाहिए ताकि जरूरत पड़ने पर आप भी किसी को बता सकें।

और इस प्रकार आप जरूर भविष्य में सफल होंगे क्योकि जिन्दगी भी हमें हर दिन कुछ न कुछ नया सीखाती रहती है। इसलिए कभी ये आपको ये नही लगना चाहिए कि मैने बहुत कुछ सीख लिया है या मुझे बहुत आ गया है अब मुझे और सीखने की आवश्यकता नही है क्योंकि जिस दिन आपको लग गया की मुझे सब कुछ आ गया है बस उसी दिन से आपकी जानकारी में वही पर अटक जाएगी और धीरे धीरे आप आउटडेटेड हो जाएंगें क्योंकि आज हर दिन कुछ न कुछ नया आ रहा है। इसीलिए अपने आप को अपडेट रखना बहुत ही जरूरी है। इसलिए हमें हमेशा कुछ नया सीखने के लिए तैयार रहना चाहिए।

इसी के साथ मैं शमीम अहमद अपनी बात ख़त्म करता हूँ पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे शेयर करें
और यदि कोई त्रुटि या गलती हुई हो तो क्षमा करें।

इस पोस्ट पर अपना कीमती समय देने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद।


Post a Comment

Please do not enter any type of spam or link in the comment box

Previous Post Next Post