How much watt SMPS/PSU we really need?

कितने वाॅट के एस.एम.पी.एस. की हमें जरूरत है?
या कितने वाॅट का एस.एम.पी.एस. हमारे लिए ठीक रहेगा?

जब आप एक Computer Assemble करते या करवाते हैं तो अपने हिसाब से बजट को देखते हुए, अपने लिए बेस्ट ही चुनते हैं, बढ़िया Processor, Heavy Motherboard, अच्छी Ram, ज्यादा स्पेस वाला Hard Disk या SSD, बढ़िया Key-Board, Mouse, अच्छा वाला Monitor, UPS इत्यादि। यानि उस बजट सेगमेन्ट में जो सबसे अच्छा हो उसे ही चुनते हैं। लेकिन इन सब के चक्कर में जो सबसे ज्यादा Important और जरूरी पार्ट SMPS को भूल जाते हैं, जिसके बिना आपका Computer Start ही नहीं होगा। ये बातें प्रायः सुनने को भी मिलता है। तो ऐसे में जब आपको रियलाइज होता है कि अरे PSU तो हमनें इसमें Include ही नहीं किया है तब तक शायद आपका बजट भी शेष या समाप्त हो चुका होता है तो अब आपको इसके लिए जुगाड़ करना पड़ता है और थोड़ा बहुत जुगाड़ करके आप एक सस्ता PSU लगवा लेते हैं जबकि आपको उस समय ये पता नहीं होता है कि आपके सिस्टम को कितने Watt की जरूरत है या आपका System Continue कितना Power Consume करेगा और क्या वो PSU जो आप लगवाने जा रहे हैं या लगवाया लिया है वो सिस्टम के Requirement को पूरा कर पायेगा, इन सब बातों पर उस समय आप ध्यान नहीं देते हैं। आप ही क्या, अधिकतर लोग ध्यान नहीं देते हैं, मैंने भी नहीं दिया था क्यों? क्योंकि एक न्यू  यूजर को इन सब बातों की जानकारी ही नहीं होती है और गलती हो जाती है। और बाद में जब हमारा सिस्टम ठीक से वर्क नहीं करता है तो आप पीएसयू के दोष को Processor पर मड़ने लगते हैं कि मेरा ये प्रोसेसर अच्छा नहीं है कमजोर है इसे लेकर मैंने गलती कर दी वगैरह-वगैरह। जबकि दोष Power Supply Unit का होता है। इसलिए आपको आपके सिस्टम के लिए एक पर्याप्त Watt और Branded PSU को लेना चाहिए ताकि आप इन सब दिक्कतों से बचे रहें।

पीएसयू क्या है, कितने प्रकार का होता है? हमारे लिए कौन-सा वाला ठीक रहेगा?


प्रश्न जो आपके मन में होगा कि कैसे पता करें कि कितने Watt के Power Supply की हमें जरूरत है या कैसे Calculate करें, जो हमारे सिस्टम के Requirement को पूरा करें। 
तो चलिए जानते हैं-    

सबसे पहले आपको ये डिसाइड कर लेना है कि आपको किस प्रकार का कम्प्यूटर असेम्बल कराना है प्रायः यह देखा जाता है कि ज्यादातर लोगों की पहले से कोई प्लानिंग नहीं होती है बस निकल पड़ते हैं और होता भी है तो रफली आइडिया। आपने भी इस बारे में जरूर सुना होगा। अच्छा एक और बात कि जब भी हम कभी किसी काम के लिए जाते हैं तो हम अकेले नहीं जाते हैं हमारे साथ कोई न कोई जरूर होता है दोस्त भी हो सकता है कोई सदस्य भी हो सकता है या कोई नजदीकी व्यक्ति हो सकता है। और हमारे यहां ये भी होता है कि सामान तो बाद में आता है ढिंढोरा पहले ही पिट जाता है, शायद आपको हंसी आ रही होगी, लेकिन ये सत्य है। कहने का ये मतलब है कि जब भी हम कोई चीज खरीदने की सोचते है तो हमारे घर वालों के अलावा ये जानकारी हमारे दोस्तों या नजदीकियों को जरूर होती है और आज के समय में राय देने वालों की कोई कमी नहीं है वो तुरन्त आपको एडवाइज देना स्टार्ट कर देंगे, भले ही उन्हें खुद न पता हो, लेकिन एडवाइस देंगे जरूर। अब जैसे-किसी ने कह दिया कि भाई ये चीज इस कम्पनी न लेकर उस कम्पनी का लेना, तो किसी और ने ये कह दिया कि दोस्त उस कम्पनी का तो लेना ही मत नहीं तो परेशान हो जाओगे, पछताओगे किसी और ने कुछ और कह दिया। ऐसे में तो हो जाएंगे न कन्फ्यूज। एक तो पहले से कुछ तय नहीं है ऊपर से इतना सजेशन  किसकी सुनें और किसकी नहीं । ऐसा कुछ हाल हो जाता है आपका और आप परेशान हो जाते है। हो सकता है कि जल्दबाजी में आप गलत चीज चुन लें, और बाद में पछताएं।




तो सर्वप्रथम आप ये सुनिश्त कर लें कि आपको लेना क्या है जो भी चीजें आपको पसंद आयें उस पर खूब रिसर्च कर लें। और आज रिसर्च करने का सबसे अच्छा माध्यम इण्टरनेट है आप अपने अनुसार सभी चीजों को देखें दूसरे प्रोडक्ट से तुलना भी करें, जब आपके सारे डाउट्स क्लीयर हो जाए, तब आप उन सबका लिस्ट बना लें, हो सके तो उनके प्राइज को भी उनके साथ लिख लें, इससे आपका बजट भी क्लीयर होता रहेगा।

अब आपको करना ये है कि आपको इण्टरनेट पर जाना है और वहां जाकर आपको सर्चबार में नीचे दिये गये लिंक को कापी कर लेना है आप चाहे तो यहां से भी रिडायरेक्ट हो सकते हैं - 

https://seasonic.com/wattage-calculator

https://outervision.com/power-supply-calculator

https://www.msi.com/calculator


सभी Reputed Brands के साइट हैं आप इनमें से कोई भी साइट पर जाएं, मान लेते हैं कि आप Cooler Master के साइट पर जाते हैं तो वहां आपके सामने कुछ ऐसा पेज दिखेगा।




और यदि आप Sea Sonic के साइट पर जाते हैं तो वहां आपको कुछ ऐसा पेज दिखेगा।




बाकियों के भी पेज भी लगभग-लगभग सिमिलर ही हैं, आप स्वयं उन Sites पर विजिट करके देख सकते हैं। आपको सभी में Selection का ही आप्शन दिखेगा, इसमें आपको बारी-बारी उन Parts को फील करते जाना है जिसका लिस्ट आपने बनाया है। जैसे-CPU और उसका Series, Motherboard, GPU, Ram, Hard Disk, SSD, Optical Drive और उनकी Quantity इत्यादि। ये सब फील आपको बारी-बारी कर देना है। कुछ Sites पर आपको Calculation Live लाइव ही दिखेगा यानि आप जैसे-जैसे अपना Selection करते जाएंगे, वैसे-वैसे वहां Wattage Plus होता जाएगा। तो वही कुछ में आपको पूरा फील करने के बाद Calculate का बटन दबाकर देखना होगा। इससे आपको आइडिया हो जाएगा कि कितने Watt के PSU की आपको जरूरत है। आप अब बारी-बारी सभी Sites Try कर लें, आप देखेंगे कि सभी का रिजल्ट अलग-अलग है। Cooler Master और MSI का रिजल्ट लगभग सिमिलर होगा, वही दूसरी ओर Sea sonic और Outer-vision का भी रिजल्ट लगभग सिमिलर ही होगा। Cooler Master, MSI वाला साइट और Sea Sonic और Outer vision के रिजल्ट में लगभग दोगुने का फर्क आपको देखने को मिलेगा, क्योंकि Sea Sonicऔर Outer Vision के साइट पर आपसे पूरी Information Fill करवाई गई, इसलिए वहां का रिजल्ट दोगुने के बराबर है बाकी दोनों से। तो आप सीसोनिक या आउटर विजन में से किसी एक को चुनें और उसी के हिसाब से ही अपना PSU सेलेक्ट करें। और जैसा कि सभी आपको रिकमेण्ड करते है कि 200 Watts आपका लोड है तो 230 Wattage लेना चाहिए इत्यादि तो आपका जो भी लोड हो आप उससे 100-150 Watt ज्यादा लीजिए जैसे-350 Watts का लोड है तो आपको 500 Watts का या 550 Watt का एक Branded PSU लेना चाहिए तो जो भी आपके लिए सही हो उसे आप चुन लें। तो ये कुछ रेप्यूटेड साइट्स थे जो आपकी हेल्प PSU Calculation में करते हैं। और इस प्रकार आप सही Watt का PSU चुन पाते हैं।

कम Wattage PSU के नुकसान-

यदि आपने एक Heavy System Built किया है जिसका Power Consumption PSU के आउटपुट के बराबर है तो नाॅर्मली तो वो काम करता रहेगा लेकिन जब कभी भी आपके सिस्टम पर ओवरलोड हुआ किसी कारण से और आपका PSU उसे पूरा नहीं कर पाया तो ऐसे में आपका सिस्टम ओवरलोड के कारण बिना किसी सूचना के शटडाउन हो जाएगा।

यदि आपके सिस्टम की डिमाण्ड आपके Power Supply Unit से ज्यादा का है तो ऐसे में आपको सिस्टम बार-बार Restart होता रहेगा।

कम Watt का PSU लगाने का एक ये भी नुकसान है कि आप कभी भविष्य में कोई नया कम्पोनेन्ट नहीं एड कर पाएगें। यानि आप उसे एड तो कर लेंगे और वो कम्पोनेन्ट शो भी करने लगेगा लेकिन जैसे ही लोड ज्यादा का होगा तुरन्त वो डिस्कनेन्ट कर दिया जाएगा।

अगर कम Watt और Chip Quality का PSU हो तो थोड़े से Fluctuation से आपका सिस्टम Hang हो जाता है थोड़े सेकेण्ड के लिए Stuck हो जाता है, Restart  भी हो जाता है और कभी-कभी तो Blue Screen तक आ जाता है। बार-बार ऐसा होता रहे तो आपका Windows भी Corrupt हो जाता है।

पीएसयू कम Watt का है और Overload थोड़े ही बहुत का है तो उसे आपके दूसरे कम्पोनेन्ट से कटौती करके पूरा किया जाता है एक बार के लिए तो ये चल जाएगा, लेकिन ऐसा हमेश होता रहे तो वो Component खराब हो सकता है।

PSU के कमजोर होने के कारण उसका प्रभाव प्रत्येक कम्पोनेन्ट पर तो पड़ता है ही है लेकिन उन सभी में Hard Disk के खराब होने का चांस ज्यादा होता है।

Blue Screen सबसे ज्यादा आने का कारण आपका PSU ही होता है कि काम करते करते आपका Display अचानक Blue Colour का हो जाता है जिसमें कुछ Information लिखा होता है और आपका सिस्टम Restart हो जाता है। आपको आपका वर्क सेव करने तक का मौका नहीं मिलता है।

तो ये कुछ काॅमन प्राब्लम थे जिसे आप एक Under Power PSU होने के कारण फेस कर सकते हैं।

PSU ज्यादा Watt के फायदे-

PSU यदि आपका आपके सिस्टम के Requirement से 100-150 Watt ज्यादा का हो और Reputed Brand का हो, तो आपका सिस्टम Overload जैसी कोई समस्या नहीं फेश करेगा, और आपके सिस्टम की Stability हमेशा ठीक रहेगी।

Fluctuation का कोई असर देखने को नहीं मिलेगा। Hang नहीं होगा, Stuck नहीं होगा। Blue Screen जैसी समस्या नहीं आएगी।और इन फ्यूचर कभी आप कुछ अपग्रेड करते है तो उस समय आपको ये नहीं सोचना पड़ेगा की मेरा SMPS इसका लोड नहीं ले पायेगा। क्योंकि आपके पास वो Extra Watt है उसे हैण्डल करने के लिए।
सभी कम्पोनेन्ट को भरपूर मात्रा में सप्लाई दी जाएगी। कोई भी कम्पोनेन्ट खराब होने के चांस नही होंगे।
और सबसे बड़ी चीज की आपका सिस्टम बड़े ही आराम से सुचारू रूप से चलता ही रहेगा।

ध्यान दें-

Heavy Watt का PSU का ये मतलब नहीं की आपको जरूरत 500 Watt की है और आपने जाकर 1000 Watt का लगवा लिया। तो उसका कोई खास फायदा नहीं होगा, क्योंकि उतने की आपको जरूरत ही नहीं है आप उतना यूज ही नहीं कर पाएंगे। इससे केवल आपका बजट बढ़ जाएगा और साथ ही साथ इलेक्ट्रिसिटी बिल भी। तो जितने की जरूरत हो उससे 100-150 Watt ही ज्यादा लगवायें, 1000 Watt नहीं।

परिणाम/निष्कर्ष-

तो आपने जाना कि कैसे पता करें कि कितने Watt के Power Supply Unit की हमें आवश्यकता है, और कितने Watt का PSU फ्यूचर को ध्यान में रखते हुए हमें लगवाना चाहिए। यदि Power Supply Unit Under Power का है तो उसके क्या नुकसान है और वो किस तरह हमें नुकसान पहुंचा सकते हैं, हमें परेशानी में डाल सकते हैं। वहीं यदि Power Supply Unit जरूरत से कुछ ज्यादे का हो तो वो हमारे लिए कितना अच्छा हो सकता है और तमाम परेशानियों से हमें बचा सकता है और साथ ही साथ हमें इन फ्यूचर काम आ सकता है। लेकिन बहुत ज्यादा हैवी हो या ज्यादे Watt का हो तो हमारे लिए परेशानी का सबब बन सकता है।

यानि निष्कर्ष ये निकला कि यदि बहुत कम का हो तो भी बेकार है और बहुत ज्यादे को हो तो भी बेकार है। इसलिए बहुत सोच-समझकर ही इसका चुनाव करें और एक सही Power Supply Unit को अपने सिस्टम में लगवाये ताकि आपके सिस्टम की लाइफ लम्बे समय तक बनी रहें। और आप Smooth तरीके से आपका काम करते रहें।
Power Supply Unit पर ये मेरा तीसरा और आखिरी पोस्ट है।

उम्मीद करता हूँ कि आपको मेरा ये पोस्ट भी जरूर पसंद आया होगा और थोड़ी बहुत जानकारी भी मिली होगी। इसलिए हमेशा  की तरह इसे लाईक और शेयर करें।
मैं शमीम अहमद इस पोस्ट को देखने के लिए आपका आभार प्रकट करता हूँ - नमस्कार



1 Comments

Please do not enter any type of spam or link in the comment box

Post a Comment

Please do not enter any type of spam or link in the comment box

Previous Post Next Post