Transistor-Nano-meter-in-Hindi

Processor-CPU-Transistor-Nano-meter-in-Hindi

ट्रांजिस्टर क्या है? और कैसे कार्य करता है?



Transistor (ट्रांजिस्टर) एक छोटा सा Semiconductor Electronic यंत्र होता है जो दिखने में काफी सिम्पल सा होता है। लेकिन इसका यूज काफी बड़े लेवल पर होता है।

Transistor का यूज बेसिकली Electron (विद्युत प्रवाह) को कन्ट्रोल करने के लिए किया जाता है और ये दो प्रकार से कार्य करते हैं। पहला As a Switch और दूसरा As a Amplifier। 

किसी भी डिवाइस में Transistor का यूज Electron को Hold करने और Pass करने हेतु ही किया जाता है यानि जब Transistor Electron को रोक कर रखता है तो ये Switch Off होता है और जब ये Electron को पास करता है तो ये Switch On होता है। 

चलिए इसे हम उदाहरण की मदद से समझते हैं-
आज के समय में हर घर में इलेक्ट्रिक उपकरण लगे हुए हैं तो आपके घर में भी इलेक्ट्रानिक उपकरण लगे होंगे और उन सभी को Control करने के लिए स्वीच भी लगे होंगे। अब वो स्वीच दो ही काम कर सकते हैं पहला On और दूसरा Off ।

तो मान लेते हैं कि एक ट्यूबलाईट का स्वीच है अब जब आपने On की तरफ बटन दबाया तो आपकी वो लाईट On हो गया यानि ऐसे में विद्युत प्रवाह आगे बढ़ना या पास होना शुरू हो गया और जब आपने Off की तरफ दबाया तो वो लाईट Off हो गया यानि विद्युत प्रवाह रूक गया या होल्ड हो गया। तो आपने देखा कि कैसे वहां पर वो स्वीच एक कन्ट्रोलर के तौर on/off करने का कार्य कर रहा था। ठीक उसी प्रकार Transistor भी कार्य करता है। एक समय के लिए ये इलेक्ट्राॅन को पास करता है और एक समय के लिए उसे होल्ड करता है और यही प्रकिया चलती रहती है। 

इसका दूसरा यूज Weak Signals को Amplify करने में किया जाता है जो कि किसी भी डिजिटल सिग्नल को बुस्ट करने यानि बढ़ाने का कार्य करते हैं। और शायद आपको पता हो कि सबसे पहले इसका यूज टेलीफोन के आवाज को एम्प्लीफाई करने के लिए ही किया जाता था। 

आज हर Digital Electronic Circuit में इसका महत्वपूर्ण भूमिका है। आज के समय में Computer, Laptop, Mobile इत्यादि जैसी चीजें जो इतना फास्ट वर्क करती है, इसी Transistor की Help से सम्भव हो पाया है बीना इसके इन तमाम चीजों की कल्पना नहीं की जा सकती है। हालांकि ये सब कार्यों के लिए Set of Rules बनाये गये हैं जिन्हें फालों करते हुए Transistor वर्क करता है। 

तो आप समझ गये होंगे कि Transistor क्या है और कैसे कार्य करता है?

Nano-meter

What is Transistor Nano-meter?

नैनोमीटर क्या होता है?



प्रायः हम किसी भी चीज को नापने या Measurement करने के लिए Meter, Feet, Inch, Centimetre, Millimetre इत्यादि का यूज करते हैं उसी प्रकार Transistor को नापने के लिए इंजीनियर्स Nano-meter का इस्तेमाल करते हैं।

Nano-meter Transistor को नापने की एक सबसे छोटी इकाई है।

Nano-meter को Short में  'NM' लिखा जाता है। 

अब आपके मन में प्रश्न होगा कि एक Nano-meter कितना होता है?

Nano-meter इतने ज्यादा शुक्ष्म होते हैं कि बीना equipment के हम इसे देख भी नहीं सकते। ये कितने शुक्ष्म होते हैं चलिए इससे समझ लेते हैं- Meter से छोटा Inch, Inch से छोटा Centimetre, Centimetre से छोटा Millimetre, Millimetre से छोटा Micrometer, Micrometer से छोटा Nano-meter। 

अब जनरली हम Millimetre को आसानी से अपने आखों से देख सकते हैं। लेकिन Micrometer को शायद हम न देख पायें। क्यों?
इसे ऐसे समझते हैं- एक सेंटीमीटर में 10 मिलीमीटर और 1 मिलीमीटर में 1000 हजार माईक्रो मीटर और 1 माईक्रो मीटर में 1000 हजार Nano-meter होता है।
अब आप समझ गये होंगे कि एक Nano-meter कितना छोटा होता है।

आपने 22 nm, 20 nm, 14 nm, 12 nm, 10 nm, 8 nm, 7 nm इत्यादि के बारे में जरूर सुना होगा।

तो ये सब क्या हैं? 

आइये इसे भी समझते हैं-

दरअसल Processor बनाने वाली कम्पनी चाहे कोई भी हो, वो कुछ समय के बाद एक नया Processors लांच करती है जिसमें हमें एक नये साईज का Transistors देखने को मिलता है जो कि पिछले वाले से साईज में छोटा होता है तो कम्पनी हमें खुद ही ये बताती है कि इस प्रोसेसर में इतने Nano-meter का Transistor लगाया गया है या इस साईज के Transistor पर बेस्ड है। और इस Processor में पहले की अपेक्षा Transistor की संख्या बढ़ा दी गई है। तो जैसे हम मान लेते हैं कि इसके पहले 14 nm का Transistor लगा था अब जो नया लांच हुआ है उसके आपको 12 nm का Transistor देखने को मिलेगा।

कम्पनीज Transistor को हर बार छोटा क्यों करती है? 

इसे हम एक उदाहरण की मदद से समझते हैं-
एक व्यक्ति है जिसका कुछ सामान ग्राउण्ड फ्लोर पर रखा हुआ है जिसे उसको फोर्थ फ्लोर पर पहुंचाना है अब उसमें कुछ सामान हैवी हैं तो कुछ हल्के भी हैं। अब इस काम को करने के लिए एक ही आदमी है तो ऐसे में वो एक सामान को उठायेगा और फटाफट सीढ़ियों से होता हुआ सामान चौथे फ्लोर पर रख कर आयेगा और फिर वापस आकर एक और सामान उठायेगा और फिर से उसे चौथे फ्लोर पर रखने जाएगा। ऐसा उसे तब तक करना होगा जब तक की काम कम्प्लीट न हो जाय। तो ऐसे में होगा क्या कि वो व्यक्ति कुछ देर तक तो काम तेजी से करेगा लेकिन 4-5-6 बार के बाद वो थक जाएगा और जो स्पीड उसकी पहले वाली थी धीरे-धीरे आधे से भी कम हो जाएगी। और कार्य भी धीमे गति से होने लगेगा। क्योंकि इस काम को करने में उसकी काफी एनर्जी खर्च होगी। लेकिन उस कार्य हेतु एक और आदमी को लगा दिया जाए तो काम की स्पीड बढ़ेगी और एनर्जी भी कम लगेगी और काम भी पहले की अपेक्षा थोड़ा जल्दी होगा लेकिन यदि वहां पर अब 2 की स्थान पर 4 व्यक्तियों को लगा दिया जाए तो काम और भी तेजी से होगा और एनर्जी भी कम खर्च होगी। अब 4 जगह 8 और 8 की जगह 16 हो जाय तो काम और भी तेजी से होगा और एनर्जी काफी सेव होगा और कम से समय में स्पीड के साथ आपका काम समाप्त हो जाएगा।

तो यहां पर आपने देखा की 1 व्यक्ति के काम करने और 10 व्यक्तियों की काम करने में कितना फर्क पड़ा।

ठीक उसी प्रकार Processor बनाने वाली कम्पनीज भी करती हैं । वो हर बार Transistor के साईज को पहले वाले की अपेक्षा छोटा कर देती हैं और पहले वाले से ज्यादा पावरफुल। Transistor को छोटा करने से उन्हें ये फायदा होता है कि वो उसी स्पेस में Transistors को और भी ज्यादा पास-पास लगा पाते हैं जिससे उन्हें और भी ज्यादा Transistors को लगा पाने का स्पेस मिल जाता है जिसमें में और भी ज्यादा Transistors को सेट करते हैं। ये नये Transistors पहले वाले से ज्यादा पावरफुल, फास्ट और कम पावर Consumption वाले होते हैं।

अभी बात Desktop और Laptop की जाए तो Intel और AMD ने 10 Nano-miter Technology वाला Transistor बना लिया है। वहीं मोबाइल कम्पनीज 10 Nano-meter वाला Transistors कब का बना चुकीं हैं अभी तो वो 7 Nano-meter Technology पर Based Processor बनाने में लगी हुई हैं जिसे उनके द्वारा जल्द ही बना लिया जाएगा। 

तो यहां हमने जाना कि Transistor क्या होता है, और कैसे काम करता है।

निष्कर्ष-

Transistor देखने में भले ही एक छोटा सा उपकरण लगे, लेकिन आज Digital Electronic Device चाहे छोटा हो या बड़ा, इसका यूज बहुत बड़े पैमाने पर किया जा रहा है। इसलिए आज के समय में बिना Transistors के किसी Digital Electronic Device की कल्पना करना बेकार सी बात होगी। बेशक Transistors का अविष्कार दुनिया के लिए एक क्रांतिकारी बदलाव साबित हुआ है।

उम्मीद है कि इस पोस्ट में आपको जरूर कुछ जानकारियां प्राप्त हुई होंगी। पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसे दूसरों के साथ शेयर करें और यदि कोई सवाल या सुझाव हो तो हमें कमेण्ट के माध्यम से बतायें।
इस पोस्ट पर अपना कीमती समय देने हेतु मैं शमीम अहमद आपका बहुत-बहुत आभार व्यक्त हूँ मिलते हैं अगले पोस्ट में तब तक के लिए नमस्कार

Post a Comment

Please do not enter any type of spam or link in the comment box

Previous Post Next Post