conventional pci in hindi

Conventional PCI Hindi

PCI का Full Form Peripheral Component Interconnect होता है।
PCI  को PCI Slot के अलावा PCI Bus और Conventional PCI भी कहते हैं।
PCI Slot का Invention Intel द्वारा 1992 में किया गया था। इसके बाद Intel ने इसमें और भी कई Versions Released किये-
PCI  1.0 1992
PCI  2.0 1993
PCI  2.1 1995
PCI  2.2 1998
PCI  2.3 2002
PCI  3.0 2004
Version 3.0 PCI का Last Version था।

PCI Slot 2 Variants में आते थे 32 Bit और 64 Bit

32 Bit Slot

PCI का 32 Bit वाला Slot 64 Bit की अपेक्षा छोटा होता था। PCI Slots की संख्या Different Motherboard Company के हिसाब से कम से कम 2 और ज्यादा से ज्यादा 5 की होती थी। 

PCI Slots 2 प्रकार के होते थे।

1.  3.3 Volt

2.  5 Volt

लेकिन इसके लिए Card 3 प्रकार के Design किये जाते थे।
पहला 3.3 Volt Card जो कि 3.3 Volt वाले Slot पर लगाया जाता था।
दूसरा 5 Volt Card जिसे 5 Volt वाले Slot पर लगाया जाता था।
तीसरा Card Universal Card होता था। इस Card को कुछ Special Purpose को ध्यान में रखकर बनाया गया था। जैसे-आपके Motherboard पर 3.3 Volt वाला Slot है और आप 5 Volt वाला Card ले आये या 5 Volt वाला Slot है और आप Card 3.3 Volt वाला ले आये तो Problem हो जाती थी न। क्योंकि 5 Volt वाला Card 3.3 Volt वाले Slot पर नहीं लग सकता था और 5 Volt वाला 3.3 Volt वाले पर। तो ऐसे में यदि आपके पास Universal Card हो तो आप दोनों में से किसी पर भी लगा सकते थे। क्योंकि Universal Card दोनों Slots पर Acceptable था। या आपके पास एक Motherboard है जिसके PCI Slot को लेकर आप Confirm नहीं थे कि Slot 3.3 Volt का है या 5 Volt का तो ऐसे में आपके पास ये ऑप्शन होता था कि आप एक Universal Card खरीद लें ताकि किसी पर भी लगा सकें।

64 Bit Slot

PCI का 64 Bit वाला Slot 32 Bit की अपेक्षा काफी बड़ा होता था लगभग उसके ढ़ेड गुने के बराबर। इसमें भी Slots की संख्या Motherboard Company के हिसाब से कम या ज्यादा होती थी। इसमें भी 2 प्रकार के Slots होते थे।
पहला 3.3 Vlot का Card जो कि 3.3 Volt वाले Slots पर लगाया जाता था
दूसरा 5 Volt का Card जो कि 5 Volt वाले Slots पर लगाया जाता था
और तीसरा Card Universal Card होता था। इस Card को भी ठीक उसी प्रकार यूज किया जाता था जैसे कि ऊपर 32 Bit वाले में बताया गया। इसमें भी Universal Card दोनों Slots पर Acceptable था। 
और इसमें भी आप PCI Slot को लेकर Confirm न होने की स्थिति में Universal Card खरीद सकते थे ताकि किसी पर भी लगा सकें।

नोट-PCI 32 Bit वाला Card 64 Bit वाले Slot पर लगाया जा सकता था जैसे-3.3 Volt 32 Bit वाला Card 3.3 64 Bit वाले पर और 5 Volt 32 Bit वाला Card 5 Volt 64 Bit वाले पर लगाया जा सकता था। लेकिन 64 Bit वाला Card 32 Bit वाले Slots के साथ Compatible नहीं था।
PCI 1992 से 2004 तक खूब चलन में था। Specially Windows 95 के समय में ये बहुत ज्यादा Popular हुआ।

PCI Slots 32 Bit और 64 Bit दो प्रकार की Speed पर Run होते थे।

33 MHz और 66 MHz

33 MHz 32 Bit

32 Bit में 33 MHz की स्पीड 133.33 MB/s की होती थी 
33.33 x 32=1066.56
1066.56/8 =133.32 MB/s


pci in hindi
pci in hindi

66 MHz 32 Bit

32 Bit में 66 MHz की Speed 266.64 MB/s की होती थी ।
66.66 x 32 =2133.12
2133.12/8=266.64 MB/s

33 MHz 64 Bit

64 Bit में 33 MHz की Speed 266.64 MB/s की होती थी ।
33.33 x 64=2133.12
2133.12/8=266.64 MB/s

66 MHz 64 Bit

64 Bit में 66 MHz की Speed 533.28 MB/s की होती थी ।
66.66 x 64 = 4266.24
4266.24 / 8 = 533.28 MB/s


convention pci in hindi


32 Bit वाले PCI Slot Generally Consumer Level वाले Motherboard पर आसानी से देखने को मिल जाया करते थे।
लेकिन 64 Bit वाले Slot Consumer level पर आसानी से देखने को नहीं मिलते थे बहुत ही Rare Case में देखने को मिलता था। क्योंकि ये Server Motherboard पर आया करते थे। Normal Motherboard पर इनकी मौजुदगी एकदम न के बराबर होती थी।

आज वर्तमान समय में PCI Slot की स्थिति क्या है?

मौजूदा समय में 64 Bit PCI Slot आपको कहीं भी देखने को नहीं मिलेंगे चाहे Server Level Motherboard हो या Consumer Level Motherboard। Consumer Level पर तो वैसे भी देखने को नहीं मिलता था। 64 Bit वाले एकदम से खत्म हो चुके हैं। क्योंकि हमारी Technology इतनी ज्यादा Advance हो चुकी है जिसे ये Support  ही नहीं कर सकते थे। इसलिए इन्हें Replace करना पड़ा।

बात करें 32 Bit PCI Slot की तो 32 Bit Slot Completely Out Dated नहीं है। PCI 32 Bit के Slot आज भी बहुत सारे Motherboard पर आते हैं। आज के समय में भी यदि आप एक बजट Motherboard लेते हैं तो आपको कम से कम एक Slot तो मिल ही जाएगा। यहां पर बात 4-5 हजार वाले सस्ते Motherboard की नहीं हो रही है। 5 हजार वाले से ऊपर वालो की बात हो रही है। ये Slot आपको Gaming Motherboard में भी देखने को नहीं मिलेंगे क्योंकि Gaming Motherboard में इसका कोई काम ही नहीं है।

conventional pci card


PCI Slot 32 bit वाले आज भी यूज में इसलिए हैं क्योंकि ऐसे बहुत से Expansion Card है जो केवल PCI Slot पर ही वर्क करते हैं। जनरली जो PCI Slot आज के Motherboard पर मिलता है वो Mostly 5 Volt वाला ही होता है। क्योंकि 3.3 Volt वाला Slot अब बहुत ही कम देखने को मिलता है इसलिए इसका Card भी न के बराबर ही बनाया जाता है। अब चुंकि एक ही प्रकार के PCI Slot और Card ज्यादातर यूज में है तो ऐसे में इसका इफेक्ट कहीं न कहीं Universal Card पर भी पड़ा। क्योंकि पहले 2 प्रकार के होने के कारण बहुत ही Confusion रहता था। लेकिन अब केवल एक ही प्रकार के Card के हो जाने के कारण कोई Confusion नहीं रहता है तो Universal Card का काम तो ऐसे ही धीरे-धीरे खत्म होता गया। हालांकि एकदम Confirm भी नहीं है कि 5 Volt वाले को छोड़कर दोनों पूर्ण रूप से बन्द हो चुके हैं या Outdated हो चुके हैं। आपको कुछ Motherboard में ये दोनों देखने को मिल सकते हैं लेकिन Rarely।

PCI का यूज क्या है?

convention pci card

PCI का यूज ज्यादातर एक नये Device को Computer में जोड़ने के लिए किया जाता है। जैसे-
Modem
Network Card
Sound Card
TV Tuner
Scanner
USB
PS/2
VGA Port इत्यादि।

convention pci card

आपके Computer का USB Port, Lane Port, PS/2 Port, Wi-Fi Port, Sound Hub, VGA Poat इत्यादि में से कोई Port खराब हो जाता है तो आप उस Individual Card को PCI पर लगाकर अपना काम कर सकते हैं बिल्कुल पहले जैसे। बहुत यूजर ऐसे होते हैं जिन्हें ज्यादा USB Port की आवश्यकता होती है तो वो USB Hub वाले Card को लगाकर उस कमी को पूरा कर सकते हैं। कुछ लोग Computer में ही TV देखना चाहते हैं तो वो TV Tuner Card यूज कर सकते हैं। कुछ लोग अलग से Sound Card भी लगाते है ताकि वो और भी बेहतर Sound का आनन्द ले सकें। तो आप इनमें से कोई भी Card का यूज करके अपने System को Enhance कर सकते हैं । ये सब Card PCI Slot पर ही वर्क करते हैं। इसलिए PCI 32 Bit का यूज आज भी होता है। हालांकि इनमें से कुछ Card PCI Express Based भी आने शुरू हो गये हैं।

PCI के खत्म होने का कारण PCI Express है क्योंकि मौजूदा समय के Technology को पुराना PCI Support नहीं कर सकता है। और कुछ चीजें अब Motherboard पर ही Inbuilt होकर आने लगी हैं। उसे अलग से लगाने की कोई जरूरत नहीं है। और बहुत सारी चीजों को USB Based कर दी गई हैं। बस USB Port पर लगाईये और काम शुरू। जैसे- पहले बेहतर Sound सुनने के लिए अलग से Sound Card लगाना पड़ता था। लेकिन आज तो Motherboard पर ही उससे अच्छा Sound Quality Inbuilt होकर आने लगा है । पहले Modem या Wi-Fi Card को अलग से लगाया जाता था लेकिन अब उसे छोटा कर USB Based कर दिया गया है बस USB Port पर लगाईये और अपना काम करिये। उसी प्रकार अब USB Hub भी आने लगे हैं किसी भी एक USB Port पर लगाइये और सभी Port का यूज करिये। तो कहीं न कहीं PCI पर निर्भरता दिनों-दिन कम होती गई है। और आज के समय में केवल एक Port ही मिलता है जिसे शायद ही कोई यूज करता हो। लेकिन आने वाले भविष्य में शायद ये भी एकदम से खत्म हो जाए।

निष्कर्ष-

आप सोच रहे होंगे कि PCI बहुत ही पुराना Standard हो चुका है और आज PCI Express का जमाना है। तो PCI को क्यों बताया जा रहा है। तो देखिए किसी नये चीज के बारे में जानना अच्छी बात है लेकिन यदि उससे पहले उसके पुराने Version या पुराने Standard को समझ लिया जाय तो नये वाले Standard को समझने में और भी आसानी होती है। और आप ये भी जान पाते हैं कि क्यों पुराना वाला फेल हो गया या Out Dated हो गया। वो कौन से कारण थे। क्या कमियां थी और नये वाले Standard में क्या बदलाव किया गया है किस प्रकार उन कमियों को दूर किया गया है, कौन सी नई चीजें Introduce की गई है। तो पुराने वाले के बारे में जरूर समझ लेना चाहिए ताकि नया वाला और भी अच्छे से आसानी से समझ आये।

आज के पोस्ट में हमनें PCI के बारे में डिटेल में जाना।
उम्मीद है कि ये पोस्ट आपको पसंद आई होगी। और कुछ जानकारियां भी मिली होंगी।
पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे शेयर करें।
कोई सवाल, सुझाव या त्रुटि हो तो नीचे कमेण्ट कर बतायें।

Post a Comment

Please do not enter any type of spam or link in the comment box

Previous Post Next Post