What is M.2 SSD in Hindi


What is M.2 SSD? M.2 SSD Kya Hota Hai

दोस्तों, आज के इस पोस्ट में हम बात करेंगे M.2 SSD के बारे में।
M.2 SSD mSATA का Mini Version है।

ध्यान दें- mSATA SATA SSD का Mini Version था और M.2 mSATA का Mini Version है। तो इनके बीच Confuse न हो।

M.2 SSD सभी SSDs में सबसे ज्यादा Popular SSD है। और पिछले पोस्ट में आपको बताया भी गया कि mSATA के Success ना होने का कारण कहीं न कहीं M.2 ही था। तो चलिए M.2 के बारे में डिटेल में जानते हैं-

What is M.2 SSD in Hindi

M.2 का Port भी mSATA की ही तरह Motherboard पर Physically Allocate होता है और इसको भी अलग से Power Cable और Data Cable की आवश्यकता नहीं होती है ये Port भी अपने जरूरी Source उसी Interface से Fulfill कर लेता है जैसे कि mSATA कर लेता था।

M.2 और mSATA का Port देखने में एक जैसा ही लगता है। लेकिन M.2 का Port mSATA के Port से भी छोटा होता है जैसे-mSATA के Port की Width 30 mm थी जो कि Fixed थी। उसी प्रकार M.2 के Port की Width Size 22mm होती है और ये भी Fixed होती है और Length mSATA की ही तरह Company to Company Vary करता है। M.2 के SSD की Size कम्पनी 2232, 2242, 2260, 2280, 22110 के Form Factors में बनाती है। यदि आपके Motherboard पर M.2 का Port है तो इनमें से कोई न कोई Size आपके Motherboard पर जरूर Mention होगा।

इस बात का भी ध्यान दें कि mSATA और M.2 के Port में Size Wise काफी अन्तर है इसलिए यदि आप mSATA के Port पर M.2 या M.2 के Port पर mSATA का SSD लगायेंगे तो वो कभी नहीं लगेगा क्योंकि दोनों के Ports के साथ-साथ Pins की संख्या भी कम ज्यादा होती है।

What is M.2 SSD in Hindi

अब बात करते हैं इसके Versions की।

जिस प्रकार mSATA में कई Versions थे उसी प्रकार M.2 SSD में भी कई Versions हैं। जैसे-M.2 Version 1.0, M.2 Version 2.0, M.2 Version 3.0, M.2 Version 4.0, M.2 Version 5.0
तो चलिए बारी-बारी इनके बारे में जानते हैं-

M.2 Version 1.0

M.2 Version 1.0 में आपको 600 MBps की स्पीड मिलती है वैसे ही जैसे mSATA और SATA SSD में मिलता था। इसमें भी Data Transfer के लिए SATA Bus का यूज किया जाता है। और Protocol AHCI होता है। इसके अलावा इस SSD में कोई बदलाव नहीं किया गया।

M.2 Version 2.0

M.2 Version 2.0 में Speed Wise बदलाव किया गया। इस SSD में आपको 10Gbps यानि 1 GBps की Speed मिलती है। यही वाली Speed आपको mSATA में भी मिलता था। इस SSD में Data Transmission के लिए PCI-Express Gen2 की 2 Lanes Allocate की जाती हैं इसमें 1 Lane की Speed 500 MBps होती है तो इस प्रकार 2 Lanes की Speed 1 GBps की हुई। और इसमें Protocol AHCI वाली ही यूज की जाती है

M.2 Version 3.0

M.2 Version 3.0 में आपको 16 Gbps यानि 1.6 GBps की Speed मिलती है। ये वाली Speed भी आपको mSATA में मिलता था। इस SSD में Data Transmission के लिए PCI-Express Gen3 की 2 Lanes Allocate की जाती हैं इसमें 1 Lane की Speed 800 MBps होती है तो इस प्रकार 2 Lanes की Speed 1600 MBps यानि 1.6 GBps की हुई। इसमें Protocol NVMe यूज की जाती है।

What is M.2 SSD in Hindi

M.2 Version 4.0

M.2 Version 4.0 में Speed Wise और भी बदलाव किया गया। इस SSD में आपको 32 Gbps यानि 4 GBps की Speed मिलती है। इसमें Data Transmission के लिए PCI-Express Gen 3 की 4 Lanes Allocate की जाती हैं। ध्यान दें इस Version में PCI-Express के Generation को नहीं बदला गया। PCI-Express की Generation अब भी 3rd ही थी। लेकिन Speed को बढ़ाने के लिए इसमें PCI-Express की 2 Lanes के जगह 4 Lanes Allocate किया गया। PCI-Express Gen 3 की 1 Lane की Speed 800 MBps थी तो इस प्रकार 4 Lanes की Speed 32 Gbps यानि Around-Around 4 GBps की Speed हुई। जो कि कम नहीं है और ये SSD मौजूदा समय मार्केट में काफी चलन में है। इसमें Protocol NVMe यूज की जाती है।

M.2 Version 5.0

M.2 Version 5.0 SSD अब तक की सबसे ज्यादा Speed देने वाली SSD है। इस SSD में आपको 64 Gbps यानि 8 GBps की स्पीड मिलती है। इसमें Date Transmission के लिए PCI-Express Gen 4 की 4 Lanes Allocate की जाती हैं। PCI-Express Gen 4 की 1 Lane की Speed 1600 MBps होती है तो इस प्रकार 4 Lanes की Speed 64 Gbps यानि Around 8 GBps की हुई। इसमें Protocol NVMe यूज की जाती है। 8 GBps की Speed बहुत ज्यादा होती है एक Normal User को इतने Speed की जरूरत भी नहीं होती है। बाकी जिसका वर्क काफी हैवी हो, यूजर Enthusiast हो तो उसको जितना भी Speed दे दिया जाय कम ही है। 

यहां पर आपको M.2 के हर Version के Speed को समझाया गया है कि इस Generation में आपको इतना Speed मिलेगा और इस Generation में इतना। इसका ये मतलब बिल्कुल भी नहीं है कि उतना Speed आपको मिलेगा ही। अलग-अलग कम्पनी की SSD में अलग-अलग Speed हो सकती है। और साथ ही ये आपके Computer पर भी Depend करता है कि आपका Computer कितना Stable है बाकी Components उसके According है कि नहीं हैं इत्यादि बातें बहुत मैटर करती है।

What is M.2 SSD in Hindi

नोट-

M.2 के SSD को Purchase करने से पहले आपको इस बात का विशेष ध्यान देना है कि आपका Motherboard किस Version के SSD को Support करता है उसका Protocol क्या है। इसके लिए आपको अपने Motherboard के Specification को अच्छी तरह Read करना पड़ेगा क्योंकि आप Physically SSD और Motherboard को देखकर कुछ भी सही-सही नहीं बता सकते हैं और यदि इन सब बातों को Ignore करते हुए बिना इसको Confirm किये हुए SSD Purchase करते हैं तो Most Probably गड़बड़ी होना तय है । तो पूरी तरह से जानकारी करने के बाद ही SSD Purchase करें। M.2 के Version 2.0 की SSD शायद अब मार्केट में Available नहीं है। इसका कारण इसके Higher Version को ही बताया जाता है।

निष्कर्ष-

जमाना Fast Forward का है। तो चीजें भी उसे के हिसाब से Design की जा रही हैं। सोचिए, बीतें कुछ सालों पहले हम PATAऔर SATA के 1.5 Gbps के Speed पर थे उसी Speed पर अपना काम कर लेते थे लेकिन आज देखते ही देखते कितना बदलाव हो गया। कब हम 1.5 Gbps वाली Speed से 64 Gbps वाली Speed पर पहुंच गए कुछ पता ही नहीं चला। 1.5 Gbps और कहां 64 Gbps बहुत बड़ा अन्तर है।

लेकिन ये जो नई Storage Devices या Interface बनाये गये हैं वो ऐसे User को ध्यान में रखकर बनाये गये हैं जिनका वर्क वाकई में इन सब Storage Design के लायक है। जो वाकई में इसका 100% उपयोग कर सकता है। अब एक ऐसा यूजर जिसे हल्के-फुल्के कार्य करने है जैसे- MS Word, Net Surfing, Movie, Songs इत्यादि तो उसको इस चीज का कोई Benefit नहीं मिलेगा। ये सब काम तो वो पुरानी HHD पर भी कर सकता है। तो ऐसे यूजर को इसे लेने का कोई फायदा ही नहीं है।

तो आज के इस पोस्ट में हमनें अच्छी तरह जाना कि M.2 SSD क्या है इसके कितने Versions है। 

आशा करता हूँ आपको ये पोस्ट जरूर पसंद आई होगी और कुछ जानकारियां भी प्राप्त हुई होंगी।
पोस्ट अच्छी लगी हो तो उसे शेयर करें। और कोई सवाल या सुझाव हो तो कमेण्ट करें।
इस पोस्ट पर अपना कीमती समय देने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद।
मिलना हूँ अगले पोस्ट में तब तक के लिए नमस्कार।





Post a Comment

Please do not enter any type of spam or link in the comment box

Previous Post Next Post