mbr vs gp partition style

MBR vs GPT Partition Style in Hindi

दोस्तों, जब हम एक Storage Device (HDD, SSD) खरीदते हैं या System में लगाते हैं तो हम उसे तुरन्त काम में नहीं ले पाते हैं क्योंकि वो एक नया Fresh Drive होता है इसलिए उसे अपने According बनाने के लिए हमें कुछ चीजों को सेट करनी होती हैं उसी में से एक है Partitioning। Partitioning यानि Disk को कई भागों में या Volumes में Divide करना। 

जिस प्रकार हम एक मकान में अलग-अलग Rooms, Store Room, Kitchen, Hall, Lobby, Guest Room इत्यादि बनवाते हैं ताकि जरूरत के हिसाब से उन्हें यूज किया जा सकें। उसी प्रकार एक Disk में भी हमें अलग-अलग Volumes बनाने की आवश्यकता होती है ताकि जरूरत के हिसाब से Data को अलग-अलग Volumes में Store किया जा सकें।

जनरली किसी भी Hard Disk Drive में Partition दो प्रकार से किये जाते हैं-

MBR


GPT

इन्हीं दोनों Partition Style की मदद से किसी भी Hard Drive में Partition Create किया जाता है।

MBR क्या है?


mbr vs gpt partition style


MBR का Full Form 'Master Boot Record' होता है। MBR एक बहुत ही पुराना Partition Style है जिसे 1983 में IBM के DOC 2.0 PC के साथ Introduce किया गया था। MBR Disk Partition बनाने वक्त ही Create होता है। जो कि किसी भी Hard Disk Drive के Beginning के Sector में Allocate होता है। इसमें आपके Hard Drive की शुरू से लेकर अन्त तक की पूरी जानकारी Store रहती है। और साथ में उसके Operation System की भी जानकारी Store रहती है। इसीलिए ये छोटे से Sector वाला Program किसी भी Disk के लिए बहुत ही Important होता है।

Advantage

MBR Partition का प्रयोग पुराने Operation System जैसे-Windows 98, Windows XP इत्यादि में किया जाता था।
MBR आज के भी Latest Operation System Windows 7/8/8.1/10 को भी Support करता है।
MBR में अधिकतम 4 Partition आप बना सकते हैं।
MBR में अधिकतम 2 TB तक के Hard Drive को Support करता है।
MBR Legacy और UEFI दोनों तरीके के Bios को Support करता है।
MBR में 32 और 64 दोनों Bit के Operating System Run होते हैं।
MBR आज भी अधिकतर Computers में Use किया जाता है।

Disadvantage

MBR बहुत ही पुराना Standard हो चुका है।
MBR में 2 TB से ज्यादा का Disk Support नहीं कर सकता है।
MBR में केवल 4 Partitions ही बनाये जा सकते हैं।
MBR Information Disk के Beginning में ही Store रहता है।
Data Corrupt होने या Overwrite हो जाने पर Backup नहीं निकाला जा सकता है।

ध्यान दें-

MBR में यदि आप 2 TB से ज्यादे का Storage Use करते है जैसे- 3 TB, 4 TB या इससे भी ज्यादे का तो वहां पर केवल 2 TB तक का ही Storage System द्वारा यूज किया जाएगा बाकि Unallocated रहेगा। यानि बाकी का Storage Useless रहेगा।
MBR में आप केवल 4 Partitions ही Create कर सकते हैं यदि आप इससे ज्यादे का Partition चाहते हैं तो आपको एक Partition को Delete करके Extended Partition बनाना पड़ेगा (Delete करने से पहले Backup जरूर ले लें) और Disk Management में जाकर Logical Partition Create करना पड़ेगा।
MBR में कोई भी Data एक ही जगह Store किया जाता है इसलिए यदि Data Corrupt या Overwrite हो जाए तो आप किसी भी हाल में Backup नहीं निकाल सकते हैं।

GPT क्या है?

mbr vs gpt partition style


GPT क्या है को जानने से पहले हम यह जान लेते हैं कि GPT की आवश्यकता हमें क्यों पड़ी? तो जैसा कि आप जानते हैं कि पहले से समय में आज की अपेक्षा Technology इतनी ज्यादा Advance नहीं हुआ करती थी। हमारे काम MBR Partition से ही चल जाया करते थे हमें ज्यादा बड़े Storage की जरूरत नहीं थी लेकिन जैसे-जैसे Technology Advance होती चली गई वैसे-वैसे हमारी जरूरतें और काम बढ़ने लगे अब जब काम बढ़ा तो हमें High Capacity के Storage Devices की जरूरत पड़ने लगी। और तब MBR की Limitation हमारे लिए Problem Create करने लगी। तो इन्हीं Limitations को दूर करने के लिए ही एक नये Partition Style को बनाया गया जिसका नाम GPT है। GPT में वो समस्त Limitation को दूर किया गया जो की MBR में थे। 

GPT का Full Form 'Globally Unique Identifier Partition Table' होता है।
GPT एक नया Standard है जिसे Intel द्वारा Develop किया गया था और इसे 1990 में लांच किया गया। Partition बनाते समय ही GPT Create होता है। ये आप पर डिपेण्ड करता है कि आप किस प्रकार का Partition Create करना चाहते हैं। GPT भी Same MBR की तरह ही काम करता है। GPT आज और भविष्य के हिसाब से बनाया गया है।

Advantage

GPT में आप 2 TB से ज्यादा यानि 9 Zettabyte तक के Hard Disk का यूज कर सकते हैं। 9 Zettabyte की Capacity बहुत बड़ी Capacity होती है।
GPT में 128 Partitions बनाये जा सकते हैं और वो भी Primary न कि Logical।
GPT में किसी भी Data को Multiple Place पर Store किया जाता है। ताकि Data Corrupt होने, Overwrite होने पर दुसरी जगह से Backup लिया जा सकें। 
GPT Partition को सबसे ज्यादा Network या Server Computers में यूज किया जाता है।
GPT Latest होने के कारण UEFI पर वर्क करता है।
GPT Latest Operating System को Support करता है जैसे-Windows - 7/8/8.1/10 इत्यादि


Disadvantage

GPT पुराने OS को Support नहीं करता है।
GPT 32 Bit OS को Support नहीं करता है।
GPT पुराने Bios को Support नहीं करता है।

नोट-

Partition बनाते समय ही आपको यह सुनिश्चित करना होता है कि आप अपने Disk के Partition को MBR में या GPT किस Style पर बनाना चाहते हैं। MBR और GPT के बारे में ऊपर अच्छे से समझाया गया है तो जो भी आपके लिए बेस्ट हो उसे सेलेक्ट करें।

इस बात का विशेष ध्यान दें कि यदि आपने MBR को सेलेक्ट किया है और सभी चीजों को व्यवस्थित तरिके से सेट कर लिया है Hard Disk में Data वगैरह सब कुछ Store कर लिया है और तब आप चाहेंगे कि आप अपने Disk का Partition Style बदल लें तो उस समय आप ऐसा नहीं कर सकते, क्योंकि इसके लिए आपको अपने Hard Disk को फिर से पूर्ण रूप से Format करना होगा और तब कहीं जाकर आप Partition Style को बदल पायेंगे। उसी प्रकार यदि आप GPT से MBR करना चाहते हैं तब भी यदि काम आपको करना होगा। 

यदि आपके पास दूसरा Storage Device है तो आप उसमें Backup लेकर ऐसा कर सकते हैं।
GPT तेजी से MBR को Replace करता चला जा रहा है क्योंकि ये बहुत ही Advance है इसलिए आने वाले समय में GPT ही एक मात्र विकल्प होने वाला है तब तक जब तक की कोई नया Partition Style नहीं आ जाता है।

आज मार्केट में Third Party Tools भी आने लगे है जो आपके Disk को MBR से GPT और GPT से MBR बिना किसी Data Loss के कर सकते हैं। लेकिन ये प्रीमियम होते हैं यानि आपको इसे परचेज करना पड़ेगा। तो यदि आप लम्बा-चौड़ा Process नहीं चाहते है तो ये विकल्प आप देख सकते हैं। Free वाले Tools के चक्कर में न पड़े क्योंकि उसमें किसी भी प्रकार की कोई गारण्टी नहीं होती है। आपका Date Loss भी हो सकता है।

कैसे पता करें कि Disk Partition MBR है या GPT?

mbr vs gpt partition style

इसके लिए आपको अपने My Computer पर Right Click करना होगा Click करते ही आपको वहां Manage का Option दिखेगा उस पर आपको Click कर देना है Click करने पर एक Window Open होगा उसमें आपको Disk Management का Option दिखेगा उस पर आपको Click कर देना है आपको नीचे की साईड Hard Disk का जितना भी Partition होगा Serial Wise Show होगा वहां पर सबसे पहले आपको आपके पूरे Disk का साईज दिखेगा जैसे-1 TB का Hard Disk आपके Computer में है 

तो 931 GB Online का Option दिखेगा उस पर Right Click करना है और Properties पर वाले पर Click कर देना है फिर से एक और नया Window Open होगा जिसमें ऊपर की साईड General, Policies, Volume इत्यादि का Option दिखेगा आपको Simply Volume वाले पर Click करना है Click करते ही ऊपर से Forth Line पर Partition Style Show होगा Master Boot Record या GUID Partition Table। तो यदि आपका Partition Style MBR है तो वहां Master Boot Record दिखेगा और यदि GPT है जो GUID Partition Table दिखेगा। तो इस प्रकार आप अपने Disk के Partition Style का पता लगा सकते हैं। आप इमेज की सहायता से भी समझ सकते हैं। 

आज के पोस्ट में हमनें MBR और GPT के बारे में डिटेल में जाना। उम्मीद है आपको अच्छे से समझ आया होगा। 
पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे आगे शेयर करें। और यदि कोई त्रुटि हो तो क्षमा करें और यदि कोई सवाल या सुझाव हो तो कमेण्ट बाॅक्स में कमेण्ट करें। धन्यवाद





2 Comments

Please do not enter any type of spam or link in the comment box

  1. Sir GPT partition mai windows install kri or kl ko windows corrupt hoo gai toh kya usska back-up dusrey computer mai HDD lgga kr lee skte hai? MBR partition mai toh hum lee skte.

    ReplyDelete
  2. Hello Sir,
    Aapka MBR Vs gpt partition k bare me jan kar hume acha laga per hum jab operating system bootable pendrive Rufus app se banate hai to ban jata hai jab hum laptop pe install karte hai to wo 70 ya 80 percent pa aakar fail ho jata hai us ka koi solution hai to bataiye

    ReplyDelete

Post a Comment

Please do not enter any type of spam or link in the comment box

Previous Post Next Post