what is mSATA ssd in hindi



What is mSATA SSD ?

दोस्तों, पिछले पोस्ट में हमनें SATA SSD के बारें में अच्छी तरह से जाना था।

आज के इस पोस्ट में हम बात करेंगे mSATA SSD के बारे में।

mSATA SATA SSD का Mini Version है। जिसे SATA SSD के Next Version के तौर पर लाया गया। जैसा कि आप जानते हैं कि SATA SSD की Speed 600 MBps की थी। जिसमें आपको एक Average 500-550 MBps तक की ही Speed मिलती थी जो कि प्रर्याप्त नहीं था। और SATA SSD इससे ज्यादा की Speed दे भी नहीं सकता था। क्योंकि 600 MBps उसकी Maximum Speed थी। इसलिए SATA कहीं न कहीं अटक सा गया था। इसलिए इसके Second Version mSATA को लाना पड़ा। mSATA को SATA SSD की अपेक्षा काफी छोटा डिजाइन किया गया और Speed Wise काफी Fast। mSATA के लिए एक नये Interface को भी Design किया गया। जो Motherboard पर अलग से Allocate होता था। जिसमें इसको Insert किया जाता था। SATA SSD की तरह इसके लिए अलग Data Cable, Power Cable इत्यादि की आवश्यकता नहीं थी। क्योंकि mSATA को Power Source और Data Source उसी Interface से ही मिल जाती थी।
what is mSATA ssd in hindi

mSATA SSD कई Form Factor में आता था जिसमें 30mm की Width Fix होती थी लेकिन इसकी Length Fix नहीं होती थी क्योंकि अलग-अलग कम्पनी अलग-अलग साईज में mSATA SSD को बनाती थी। तो ये कम्पनी-कम्पनी के हिसाब से छोटी-बड़ी होती थी।

mSATA में कुल 4 Version थे। जो क्रमशः mSATA Version 1.0, mSATA Version 2.0, mSATA Version 3.0 और mSata Version 4.0 थे। ये चारों Generation एक-दूसरे से बिल्कुल अगल थे।

तो चलिए बारी-बारी सभी के बारे में जानते हैं-

mSATA Version 1.0

mSATA Version 1.0 SSD की जो Speed थी वो थी 6Gbps यानि 600 MBps थी और ये SATA Bus का यूज करते हुए Data Transfer करती थी। और ये SSD भी SATA SSD की तरह AHCI Protocol पर वर्क करती थी।

अब आप सोच रहे होंगे कि SSD mSATA वाली और Speed SATA वाली तो फायदा क्या हुआ? तो यहां पर मैं आपको बता दूं कि mSATAके Fist Version में Speed Wise तो कोई बदलाव नहीं किया गया था केवल इसमें Interface को और SSD की साईज को बदला गया था। इसके अलावा कोई और बदलाव नहीं था।

what is mSATA ssd in hindi

mSATA Version 2.0

mSATA के Version 2.0 में Speed Wise काफी बदलाव किया गया। इसमें जो Speed हमें मिलती थी वो थी 10 Gbps यानि 1 GBps और इसमें Data Transfer Mode को बदलकर PCI-Express Based कर दिया गया। जो कि पहले Version में SATA Based था। इसमें Data Transfer करने के लिए PCI-Express Generation-2 की 2 Lane Assign की जाती थी और PCI-Express Generation-2 के 1 Lane की Speed 500 MBps होती थी तो इस प्रकार 2 Lane की Speed 500+500=1000 MBps हुई। 

mSATA Version 3.0

mSATA के Version 3.0 में Speed को और भी ज्यादा Improve किया गया। अब इस Version 3.0 में जो Speed हमें मिलती थी वो थी 16 Gbps यानि 2 GBps और इसमें Data Transfer करने के लिए PCI-Express Generation-3 की 2 Lane Assign की जाती थी और PCI-Express Generation-3 के 1 Lane की Speed 800 MBps होती थी तो इस प्रकार 2 Lane की Speed 800+800=1600 MBps हुई।

what is mSATA ssd in hindi

mSATA Version 4.0

mSATA Version 4.0 इस Series का Last SSD था। जिसे Officially Announced तो नहीं किया गया था। लेकिन Specs के हिसाब से इस SSD की जो Speed थी वो थी 32 Gbps यानि 3.2 GBps जो कि कम नहीं थी। और इसमें Data Transfer के लिए PCI-Express Generation-4 की 2 Lanes Assign थी। और PCI-Express Generation-4 के 1 Lane की Speed 1600 MBps थी तो इस प्रकार 2 Lanes की Speed 1600+1600=3200 MBps हुई। लेकिन ये SSD मार्केट में आई या नहीं इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है।



ध्यान दें-

वर्तमान समय में इन चारों SSDs में से केवल एक SSD mSATA Version 1.0 मार्केट में उपलब्ध है बाकि तीनों का मार्केट में कोई अता-पता नहीं है ये मार्केट से एकदम से गायब हैं। इसीलिए इसके Interface भी किसी Motherboard पर नहीं मिलते हैं यदि मिलता भी है तो वो mSATA का First Version ही होता है।

mSATA के मार्केट से गायब होने का एक बड़ा कारण इसके Next Version M.2 को माना जाता है क्योंकि mSATA के आने के कुछ दिन बाद ही M.2 SSD आ गई थी। इस SSD का Interface पिछले वाले Interface से भी काफी छोटा था। और ये SSD की Size भी काफी Compact थी और जो Speed थी वो काफी Fast थी। इसलिए इसके आते ही Companies mSATA को छोड़ M.2 पर Shift हो गई। ध्यान दें ये बातें अनुमानित हैं ऐसा अनुमान लगाया जाता है कि शायद इन्हीं कारणों से mSATA मार्केट से गायब हुआ होगा लेकिन वास्तविक कारण क्या था वो तो कम्पनीज ही बेहतर जानती होंगी।

what is mSATA ssd in hindi

नोट-इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि यदि mSATA के सभी वर्जन मार्केट में उपलब्ध होते तो हमें मदरबोर्ड और SSD को परचेज करते समय बहुत ही सचेत रहना पड़ता नहीं तो ऐसा होता कि मदरबोर्ड पर mSATA का Interface Version 1.0 है और जानकारी के अभाव में हम mSATA SSD Version 3.0 उठा लाते या मदरबोर्ड पर Physical Interface का Version 3.0 है और हम Version 1.0 वाला SSD उठा लाते। तो दोनों तरीकों से परेशानी हमें ही उठानी पड़ती। अब ऐसा भी नहीं है कि वो एक दूसरे के साथ काम ही नहीं करते, करते बिल्कुल करते लेकिन SSD का Actual Performance हमें नहीं मिल पाता। Stability के Issues आते। हो सकता है कि Mix-Match लगाने के बाद सिस्टम पहले से भी बुरे हाल में चलता। लेकिन आज ऐसा नहीं है क्योंकि mSATA का एक ही Version मार्केट में उपलब्ध है और वो है mSATA Version 1.0 इसी कारण से कम्पनी भी उसी के लिए ही Interface बनाती हैं। 
      

निष्कर्ष-

हमारी Technology काफी Advance होती चली जा रही है और आये दिन कुछ न कुछ नयी चीज सामने निकल कर आ रही है जिस कारण से हमें कल की चीजें आज पुरानी और आउटडेटेड लगने लगती है। तो ये हमारी जरूरतें है जो कभी खत्म होने वाली नहीं हैं ये ऐसे ही दिनों-दिन बढ़ती ही जाएगी। और ऐसा ही चलता रहेगा।

आज के इस पोस्ट में हमनें mSATA SSD के बारे अच्छी तरह से जाना।
उम्मीद है पोस्ट आपको पसंद आई होगी। पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे शेयर करें। और कोई सवाल या सुझाव हो तो कमेण्ट करें।
इस पोस्ट पर अपना कीमती समय देने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद।
मिलता हूँ एक नये पोस्ट के साथ तब तक के लिए-नमस्कार



Post a Comment

Please do not enter any type of spam or link in the comment box

Previous Post Next Post