random access memory in hindi


What is Random Access Memory Ram in Hindi?

दोस्तों, जब भी कभी Computer, Laptop खरीदने की बात आती है तो उसमें Random Access Memory (Ram) का नाम जरूर सामने आता है। बीते कुछ वर्षों में ये Ram Word बहुत ही ज्यादा चर्चित व प्रचलित हुआ है, इसके पीछे की वजह Smartphone है।

कुछ सालों पहले जब Smartphone नहीं हुआ करता था तब इसके बारे में Technical व्यक्ति ही जानकारी रखते थे, Non-Technical व्यक्ति इसके बारे में कुछ खास नहीं जानते थे। लेकिन आज Smartphone के आ जाने के कारण हर व्यक्ति इसके बारे में जानने लगा है या जान चुका है। 

हालांकि ज्यादातर लोग इसके बारे में बहुत ज्यादा नहीं जानते हैं जैसे- Ram क्या होता है? कैसे काम करता है? इसे क्यों बनाया गया? ये कितने प्रकार का होता है? और कितने साईज की Ram वास्तव में हमारे लिए ठीक रहेगी? बस उन्हें यही पता होता है कि Ram जितना ज्यादा होगा उतना अच्छा होगा। 

लेकिन बस इतना भर जान लेने से ही काम नहीं चल जाता है। इसके लिए इसके बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए। चाहे Ram Computer का हो, Laptop का हो या Mobile Phone का हो।

तो चलिए आज के इस पोस्ट में हम विस्तार से जानते हैं कि Ram क्या होता है? कैसे काम करता है? इसे क्यों बनाया गया? ये कितने प्रकार का होता है? और कितनी साईज के Ram की वास्तव में हमें जरूरत है? तो चलिए शुरू करते हैं-

What is Ram? रैम क्या है?

What is ram in Hindi

Ram का Full Form Random Access Memory होता है। ये आपके Computer की Second सबसे Fastest Memory होती है जो किसी भी Data को बहुत ही तेजी से Read-Write करने का काम करती है। ध्यान दें यहां पर Cache Memory की बात नहीं हो रही है। Cache Memory क्या होती है? के बारे में हम किसी और पोस्ट में जानेंगे।

Ram आपके Computer का बहुत ही Important Component/Part होता है, वैसे तो एक Computer में सभी Parts Important होती हैं। लेकिन बिना Ram के पहले तो आपका Computer Start ही नहीं होगा, दूसरा Read/Write Operation नहीं हो पायेगा। इसलिए ये उन सबमें सबसे Important है। 

Ram एक Volatile Memory होती है जो Temporary Base पर Data को Store करती है जब तक इसे Power मिलता रहता है तब तक Data Ram में मौजूद रहता है और जैसे ही Power Cut होता है सारा Data Delete हो जाता है। 
Ram को Random Access Memory के अलावा Primary Memory, Main Memory के नाम से भी जाना जाता है।

How Ram works? रैम कैसे काम करता है?

What is ram  in Hindi

जैसा कि आप जानते हैं कि Computer, Laptop या Mobile Phone में Processor का यूज किया जाता है और Processor कितना Fast होता है ये तो आपको पता ही है। तो Processor को किसी भी प्रकार का Processing Work करने के लिए एक Separate Space की जरूरत होती है ताकि वहां पर वो पहले File को लाकर रख पाये और फिर अपना Processing Work कर पाये। 

Processor बहुत ही Fast Processing करता है इसलिए उसे Data भी उतनी ही Speed से चाहिए होता है और इसीलिए उस Particular Space को भी उतना ही Fast होना पड़ेगा ताकि वो Processor तक Data बहुत ही तेजी के साथ पहुंचा पाये। और Processor को अपना काम करने में किसी भी प्रकार की कोई Problem न हो। 

इन तमाम बातों को ध्यान में रखकर ही Ram को बनाया गया। Ram बहुत ही तेजी के साथ किसी भी Data को Read-Write करता है। और Processor तक Randomly Information पहुंचाता है। जिससे Processor भी अपना काम फटाफट कर पाता है।

जब आपका System On होता है तो आपके System की जरूरी Applications जैसे-Operating System, Software, Files सबसे पहले Ram में Load हो जाती हैं। और इस प्रकार आपका Computer Work के लिए रेडी हो जाता है। अब जब आप कोई नई File Open करते है तो वो सबसे पहले Secondary Memory में से उठकर Ram पर Load होता है और फिर उसमें Processing Work Perform होता है। आप किसी भी तरीके से Ram में कोई File Permanently Save नहीं कर सकते हैं क्योंकि ये एक Volatile Memory होती है।

Type of Ram। Ram कितने प्रकार का होता है?


Ram 2 प्रकार के होते हैं-

1- SRam

2- DRam


what is ram in hindi

SRam Static Random Access Memory

SRam का Full Form Static Random Access Memory होता है।
ये Memory बहुत ही Fast होती है।
ये Memory बहुत ही कम बिजली खर्च करती है।
इसे Data को याद रखने के लिए बार-बार या लगातार Refresh करने की आवश्यकता नहीं पड़ती है।
इस Memory का यूज CPU के L-2 और L-3 में किया जाता है।
SRam के प्रत्येक Cell में 6 Transistors का यूज किया जाता है।
इसमें Capacitor का यूज नहीं किया जाता है।
SRam काफी Durable होता है।
इसकी की Size 1-16 MB तक की होती है।
इसकी का Access Time 10 Nano Second होता है।
ये Memory काफी Costly होता है।
इसकी Capacity बहुत ही कम होती है।
Power Cut होने पर SRam में से सारा Data Delete हो जाता है।

DRam (Dynamic Random Access Memory)

DRam का Full Form Dynamic Random Access Memory होता है।
ये SRam के बिल्कुल Opposite होता है।
DRam को Data याद रखने के लिए बार-बार लगातार Refresh करने की जरूरत होती है।
इसकी Durability बहुत कम होती है।
इसकी Speed SRam के मुकाबले Slow होती है।
इस Memory के प्रत्येक Cell में एक Transistor और एक Capacitor का यूज होता है।
इसकी Cost SRam की अपेक्षा कम होती है।
इसकी Capacity SRam के अपेक्षा ज्यादा होती है।
इसमें Power Discharge SRam की तरह तुरन्त नहीं होता है बल्कि धीमे-धीमे होता है। हालांकि इसमें भी Power Off होने पर Data Delete हो जाता है।
इस Ram में Power Consumption ज्यादा होता है।
DRam का Access Time 60 नैनो सेकेण्ड होता है।
इसकी साईज 16 GB तक हो सकती है।
DRam का Mostly Use Main Memory यानि Ram को बनाने में किया जाता है।

How much Ram do we/I really need?

 कितने साईज का रैम हमारे लिए ठीक रहेगा।

what is ram in hindi


ये प्रश्न अधिकतर लोगों के मन में जरूर उठता है। इसलिए ये एक बहुत ही Common सा प्रश्न बन चुका है। आपने भी कभी न कभी ऐसा कुछ जरूर सुना होगा। तो यहां पर एक बात बिल्कुल साफ है कि इस प्रश्न का कोई भी एक Generalize या Fix Answer नहीं है कि आप इतनी Size की Ram लगवा लो या इतना Ram आपके लिए बिल्कुल ठीक रहेगा।

ये Totally Depend होता है आपके Work Flow पर, आपके काम पर कि किस प्रकार के यूजर हैं आप? किस प्रकार का वर्क करते हैं आप? इन्हीं सब चीजों से ही ये तय हो पाता है।

जैसे-एक नार्मल यूजर है जिसका Work Movie, Song, Net Surfing, Browsing, MS Office इत्यादि का है तो आज के हिसाब से देखा जाय तो 4 GB का Ram उसके लिए पर्याप्त होगा। यदि उसका वर्क ऐसा हो तो।

वहीं एक ऐसा यूजर है जिसका वर्क थोड़ा Heavy है जैसे- Photoshop, CorelDraw, Illustrator इत्यादि यानि वो इस प्रकार का Graphical Work करता हो तो उसके लिए 8 GB तक का Ram ठीक रहेगा। यदि उसका वर्क ऐसा हो तो।

वहीं एक ऐसा यूजर है जो इससे भी Beyond का Work करता हो जैसे- Photoshop, CorelDraw, Illustrator इन सभी के साथ-साथ After Effect, Adobe Premier और Heavy Image Processing करता हो तो उसके लिए 16 GB तक Ram ठीक रहेगी।

वहीं एक ऐसा यूजर जिसका Work इससे भी ज्यादा Heavy हो तो जैसे-Heavy से Heavy Graphical Works, Heavy Audio-Video Mixing, Rendering, Animation इत्यादि तो उसके लिए 32 GB या 64 GB तक का Ram ठीक होता है। लेकिन इसके लिए उसका Motherboard भी उस Level का होना चाहिए।

वही Heavy Gamers की बात की जाय तो उनका Motherboard ही एकदम अगल होता है जिसमें 8 Ram Slots होते हैं तो वो अपने हिसाब उसमें  Ram लगा सकता है।

तो अपने वर्क के हिसाब से अपने जरूरत के हिसाब से एक सही साईज के Ram का चुनाव किया जा सकता है। अब जैसे एक नार्मल यूजर जिसका काम 4 GB या 8 GB तक में आराम से चल सकता है तो वो यदि 16 GB या 32 GB तक का Ram लगवा ले तो उसका कोई मतलब नहीं है क्योंकि उतना Ram आप यूज ही नहीं कर पायेंगे।

वहीं आपके काम के हिसाब से 8 GB का Ram आपके लिए बेस्ट है और आप वहां पर 2-4 GB लगवाते हैं तो इससे आपके Computer में Problems शुरू हो जाएंगी। आपका System Hang होगा, Slow Work करेगा और भी तमाम Problems आपको झेलनी पड़ेंगी।

Ram यदि थोड़ा सा ज्यादा है तो इसमें कोई Problem नहीं है लेकिन बहुत ज्यादा का है तो बेकार है। क्योंकि उसका आप यूज कर नहीं पायेंगे तो वो हर समय Useless ही पड़ा रहेगा। और इस प्रकार बेवहज आपके पैसे खर्च हो जाएंगे।

Mobile Phone Ram


what is ram in hindi


जैसा कि शुरू में ही Smartphone की बात हुई थी कि Ram को पहले बहुत ही कम लोग जानते थे लेकिन जब से Smartphone आया तब से ज्यादा से ज्यादा लोग इसके बारे में जानने लगे लेकिन बस इतना कि Smartphone ज्यादा Ram वाला लेना चाहिए। 

यानि उनके दिल-दिमाग में ये बात बैठ चुकी है कि ज्यादा Ram का मतलब बहुत ही अच्छा।
Smartphone Companies ने भी इस चीज को भापा और इस चीज को टारगेट किया और Ram Word को अपने Product में Highlight किया जैसे- 1 GB Ram, 2 GB Ram,  3 GB Ram,  4 GB Ram, 6 GB Ram, 8 GB Ram, 10 GB Ram, 12 GB Ram अभी तक शायद 12 GB सबसे ज्यादा है। 

Ram की Size दिनों-दिन इसलिए भी बढ़ती चली जा रही है क्योंकि दिनों-दिन Application की भी Size बढ़ती जा रही है। कभी ये 1-2 GB होता था जिसमें हमारा काम चल जाता था आज 10-12 GB है तब भी हमारा काम चल जा रहा है। और आने वाले सालों में ये ऐसे ही और बढ़ता रहेगा। 

Conclusion

Computer, Laptop, Tablet, Mobile के Ram एक दूसरे से बिल्कुल अलग होते हैं। आप किसी का किसी में नहीं लगा सकते हैं।

यदि आपके पास एक Desktop Computer है तो आप अपने जरूरत के अनुसार Ram को घटा व बड़ा सकते हैं। बहुत सारे Laptop में भी ये सुविधा होती है जिसमें आप Ram को बड़ा सकते है। 

लेकिन कुछ बजट Laptop में आप ऐसा नहीं कर सकते हैं क्योंकि बहुत सारे बजट Laptop में Ram Embedded/Inbuilt होकर आते हैं तो ऐसे Case में आप कुछ नहीं कर सकते हैं। वही कुछ Laptops में आपको Ram की केवल एक ही Slot मिलती है तो यदि आप Ram को Upgrade करना चाह रहे हैं तो आपको नई Ram खरीदनी पडे़गी इस कारण से आपका पुराना वाला बेकार हो जाएगा।

what is ram in hindi

Tablet और Mobile Phone के Ram को आप चाह कर बढ़ा नहीं सकते हैं क्योंकि ये Motherboard पर Sold  होकर आते हैं तो आप यहां कुछ भी नहीं कर सकते हैं सिवाय नया परचेज करने के।

तो आज के इस पोस्ट में हमनें जाना कि Ram क्या है, कैसे काम करता है, कितने प्रकार का होता है और Ram का सही चुनाव हम कैसे कर सकते हैं।

उम्मीद है सभी चीजें आपको अच्छे से समझ आ गई होंगी। पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे शेयर करें। और कोई सवाल या सुझाव हो तो नीचे कमेण्ट करें।
इस पोस्ट पर अपना कीमती समय देने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद

Post a Comment

Please do not enter any type of spam or link in the comment box

Previous Post Next Post