digital visual interface in hindi



What is DVI & How DVI works?

DVI क्या होता है? और कैसे काम करता है?

पिछले पोस्ट से हमनें Display Interfaces की Series स्टार्ट की है जिसमें हमारा पहला पोस्ट VGA के बारे में था। 

पिछले पोस्ट में हमनें VGA के बारे में डिटेल में जाना था कि VGA क्या होता है, कैसे काम करता है? 
नहीं देखा है तो मैं आपसे Request करूँगा की नीचे दिये गये Link पर Click करें और उस पोस्ट को जरूर देखें ताकि इस पोस्ट को समझने में आसानी हो।

What is VGA Cable in Hindi


दोस्तों, Display Interface से Related ये हमारा दूसरा पोस्ट है, जिसमें हम आज DVI के बारे में जानेंगे।
सबसे पहले हम ये जानते हैं कि हमें DVI की जरूरत क्यों पड़ी। क्यों हमें इस नये Interface को डिजाइन करना पड़ा? जबकि VGA का Option हमारे पास पहले से ही था।

इन तमाम सवालों के जवाब आज के इस पोस्ट में हम जानेंगे, तो चलिए शुरू करते हैं-

पहले जानते हैं कि DVI का फुल फाॅर्म क्या होता है?

What is the full form of DVI?

DVI का Full Form Digital Visual Interface होता है। जिसे Short में DVI कहा जाता है।

DVI को क्यों Design किया गया?
DVI के पहले VGA Cable को लाया गया था जो कि काफी Popular Interface था। और उस समय काफी चलन में था। लेकिन VGA में बहुत सारी कमियां थी। जिसमें सबसे बड़ी कमी ये थी कि वो Analog Signal को Carry करता था। 

तो जो भी Signal एक End से भेजा जाता था वो दूसरे End पर हमें Decrease होकर मिलता था जो इसका सबसे बड़ा Drawback था। इस कारण से हमें CPU या GPU द्वारा Create किया गया वास्तविक Quality नहीं मिल पाता था। इसके अलावा भी बहुत सारी कमियां थी। पोस्ट देखा होगा तो जरूर पता होगा।

तो इन्हीं सब कमियों को दूर करके 1999 में एक नया Interface Launch किया गया जो कि DVI था। इस Interface में समस्त कमियों को दूर किया गया जो VGA में थे।
अब आपको पता चल गया होगा कि DVI क्या है और इसे क्यों लाया गया।

अब बात करते हैं इसके Different-Different Type and Different-Different Versions के बारे में। 
DVI में कुल 5 Versions लांच हुए थे जिसमें कुल 5 प्रकार के Ports और Cables थे। और सबके अलग-अलग नाम भी थे। जिनके बारे में हम बारी-बारी जानेंगे।
digital visual interface in hindi

DVI Versions

1. DVI-A (Analog)

2. DVI-D (Digital) Single Link

3. DVI-D (Digital) Dual Link

4. DVI-I (Integrated) Single Link

5. DVI-I (Integrated) Dual Link

ये DVI के अलग-अलग Versions हैं। अब हम इनके बारे में बारी-बारी से जानते हैं-

1. DVI-A (Analog)

DVI यानि Digital Visual Interface तो जैसा कि नाम में Digital है, तो इसका ये मतलब नहीं कि ये केवल Digital Signal ही Carry करेगा। DVI का ये Version यानि DVI-A केवल Analog Signal Carry करता है। क्योंकि यहां पर A मतलब Analog से है।

अब आप सोच रहे होंगे कि जब ये Cable Analog Signal ही Carry करता है तो इस Cable का फायदा क्या हुआ। ये काम तो VGAभी कर लेता था। 

तो हां, ये काम VGA भी कर लेता था लेकिन इस Cable को Backward Compatibility को ध्यान में रखकर बनाया गया है ताकि VGA यूजर को दिक्कत न हो। और रही बात इस Cable की तो ये Cable हर मामले में VGA से बेहतर है।

DVI Cable और VGA Cable को बाहर से देखकर आप फर्क नहीं बता सकते हैं। क्योंकि दोनों देखने में बिल्कुल एक जैसे लगते हैं सेम बनावट, सेम Locking Mechanism सब कुछ VGA जैसा ही। ध्यान दें-यहां पर कलर की बात नहीं हो रही है।

लेकिन जब आप इसके Pins को देखेंगे तो आपको समझ आयेगा कि ये VGA नहीं DVI Cable है।
DVI के Analog Cable में कुल 17 Pins होते हैं तो इसमें जो 5 Pins एक साथ होते हैं जिसमें से एक Pin माइनस वाले को छोड़कर बाकी 4 Analog Signals को Carry करने का काम करते हैं। इमेज में आप देख सकते हैं।


digital visual interface in hindi

इसमें आपको 1920x1200 के Resolution का Support मिलता है। जिसका Refresh Rate 60 hz होता है। और Aspect Ratio 16 :10 होता है। और जो Data Transfer Rate होता है वो 3.96 Gbps का होता है।

DVI के बाकी सब Pins क्या और कैसे काम करते हैं? इसके लिए दिये गये इमेज को देखें।

digital visual interface in hindi


अब बात करते हैं DVI के अगले Version यानि DVI-D के बारे में। तो यहां पर जो DVI के साथ D वर्ड जुड़ा है इसका मतलब Digital होता है। यानि ये Version केवल Digital Signals को ही Carry कर सकता है। Analog Signals को नहीं। जैसे की Analog में होता था कि वो केवल Analog Signals को ही Carry कर सकता था। Digital Signals को नहीं।

DVI-D में कुल 2 प्रकार के Cable व Port आते हैं जिसमें पहला Single Link होता है और दूसरा Dual Link।

DVI-D (Single Link)

DVI के Single Link में आपको कुल 19 Pins देखने को मिलते हैं। और ये सारे Pins केवल Digital Signals को ही Carry करते हैं। इसमें आपको Analog वाले Pins देखने को नहीं मिलेंगे। जो कि आपको Analog वाले में देखने को मिलता था। आप इमेज में भी देख सकते हैं।

digital visual interface in hindi

इसमें आपको 1920x1200 Resolution का Support मिलता है। जिसका Refresh Rate 60 hz होता है। और Aspect Ratio 16 :10 का होता है। और Data Transfer Rate 3.96 Gbps का होता है।

DVI-D (Dual Link)

DVI के Dual Link में आपको कुल 25 Pins देखने को मिलती हैं। ये भी केवल Digital Signals को ही Carry कर सकता है। और इसमें भी आपको Analog वाले Pins देखने को नहीं मिलता है।

इसमें Resolution की Size Single Link की अपेक्षा बढ़ जाती है। यानि इसमें आपको जो Resolution मिलता है वो 2560x1600 का होता है। और इसमें Refresh Rate 60 hz का होता है। और Aspect Ratio 16 :10 का। 

लेकिन इसमें Data Transfer Rate बढ़कर लगभग Double हो जाता है यानि इसमें आपको 7.92 Gbps Data Transfer Rate मिलता है।

ये Cable Single Link की अपेक्षा थोड़ा मोटा होता है क्योंकि इसमें Physical Pins और Wire की संख्या बढ़ जाती है। जिस कारण उस Cable की मोटाई बढ़ जाती है। बढ़े पिन्स की संख्या आप इमेज में देख सकते हैं।

digital visual interface in hindi

बात करते हैं इसके Next Version की जो कि है DVI-I। तो यहां पर जो DVI के साथ I वर्ड जुड़ा है इसका मतलब हुआ Integrated यानि Analog और Digital की Hybrid यानि दोनों का समावेश।

DVI के इस Version में Digital और Analog दोनों ही Type के Signals Transfer किये जा सकते हैं। DVI का ये Version दोनों प्रकार के Signals के साथ Compatible है।

DVI-I में भी 2 प्रकार के Cable व Port आते हैं जिसमें पहला Single Link दूसरा Dual Link।

DVI-I (Single Link)

DVI के Single Link में आपको कुल 23 Pins देखने को मिलते हैं। और ये सारे Pins Digital के साथ-साथ Analog Signals को भी Carry कर सकते हैं। क्योंकि इसमें आपको Analog वाले Pins भी देखने को मिलते है। आप इमेज में भी देख सकते हैं।

digital visual interface in hindi

इसमें आपको 1920x1200 के Resolution का Support मिलता है। जिसका Refresh Rate 60 hz होता है। और Aspect Ratio 16 :10 का होता है। और जो Data Transfer Rate होता है वो 3.96 Gbps का होता है।

DVI-I (Dual Link)

DVI-I का Dual Link ये Cable और Port अभी तक में बेस्ट आफ बेस्ट है। इसमें आपको कुल 29 Pins देखने को मिलते हैं। और ये भी Digital के साथ-साथ Analog Signals भी Carry कर सकता है।

इसमें Resolution का साईज बढ़ जाता है। यानि इसमें आपको जो Resolution मिलता है वो Single वाले से ज्यादा का होता है। इसमें आपको 2560x1600 का Resolution मिलता है। और इसमें Data Transfer Rate भी Single वाले का लगभग Double हो जाता है। यानि इसमें आपको 7.92 Gbps का Data Transfer Rate मिलता है। हालांकि Refresh Rate और Aspect Ratio सेम ही मिलता है। यानि Refresh Rate 60 hz और Aspect Ratio 16 :10।

ये Cable भी Single Link की अपेक्षा थोड़ा मोटा होता है क्योंकि इसमें Physical Wire और Pins की संख्या बढ़ जाती है इस कारण उस Cable की मोटाई बढ़ जाती है।
बढ़े Pins की संख्या आप इमेज में देख सकते हैं।

digital visual interface in hindi

ध्यान दें-
यदि आप एक DVI Cable खरीदने की सोच रहे हैं तो आप इस बात का विशेष ध्यान दें कि आजकल मार्केट में इस Cable को भी गलत तरीके से सेल किया जा रहा है। जैसा कि आपको ऊपर बताया गया कि Single Link और Dual Link वाले केबल में बहुत फर्क होता है। 

Single Link वाला केबल थोड़ा पतला होता है क्योंकि उसमें No. of Pins Dual Link की अपेक्षा कम होती हैं। लेकिन Dual Link में No. of Pins और Wire की संख्या ज्यादा होती है जिस कारण वो मोटे होते हैं। 

सावधान-
मार्केट में आजकल कुछ ऐसे Cable भी सेल किये जा रहे हैं जिसमें No. of Pins तो पूरे होते हैं लेकिन वो Cable Single Link वाले ही होते हैं। क्योंकि वहां पर दिखाने के लिए Pins पूरे लगाये जाते हैं लेकिन वो अन्दर से Connect नहीं होते हैं।

ऐसे Cable केवल यूजर को गुमराह कर सेल करने के परपज से ही बनाये जाते हैं। तो आपके साथ ऐसा न हो या आप गलती से ऐसा Fake Cable न खरीद लें। इसके लिए सावधान रहिये। 

DVI Advantage and Disadvantage


digital visual interface in hindi


DVI Advantage

अभी तक ऊपर जितना भी बताया गया वो सारे DVI के Advantage ही थे। लेकिन फिर भी कुछ Points देख लेते हैं-
DVI Cables VGA की अपेक्षा काफी अच्छे से Signals को Carry कर लेते हैं। इसमें VGA की तरह Signals Decrease नहीं होते हैं। DVI में केबल की Length बढ़ाने पर Signals में कोई फर्क नहीं पड़ता है। DVi Backward Compatible है। 

DVI में Analog के लिए अलग, Digital के लिए अलग और Integrated के लिए अलग Cable और Ports होते हैं। DVI के Integrated Cable और Port दोनों प्रकार के Signals Analog और Digital को Support करते हैं।

DVI के Digital और Integrated में दो प्रकार के Cable व Port आते हैं जिसमें एक Single दूसरा Dual Link होता है। Dual Link हर मामले में Single वाले से अच्छा होता है। DVI में आपको VGA की अपेक्षा अच्छा Resolution देखने को मिलता है। इसमें Aspect Ratio आपको VGA की अपेक्षा काफी ज्यादा मिलता है।

DVI Disadvantage

DVI का सबसे बड़ा Disadvantage इसके इतने सारे Versions ही थे। Analog के लिए अलग Cable व Port, डिजिटल के लिए अलग Cable व Port, इंटिग्रेटेड के लिए भी अलग Cable व Port और उसमें भी दोनों के दो-दो Versions Single Link और Dual Link। बहुत ही Confusion होता है।

Analog वाला Cable Digital वाले Port पर Connect नहीं हो पाता था। और उसी प्रकार Digital वाला Cable Analog Port पर Connect नहीं हो पाता था।

और उसी प्रकार Digital का Dual Link वाला Cable Digital के Single Link वाले Port पर नहीं Connect हो पाता था। लेकिन Single Link वाला Cable Dual Link वाले Port पर आराम से बैठ जाता था। क्योंकि इनमें जो Physical Pins होते हैं वो कम ज्यादा होते थे जिस कारण से Problem Create होता था।

उसी प्रकार Integrated वाले Dual Port पर Single व Dual दोनों Cable Connect हो जाते थे और साथ ही Analog और Digital वाले Cable भी Connect हो जाते थे।

लेकिन Integrated वाले Single Port पर केवल Single Link वाला Cable ही Connect हो सकता था चाहे वो Analog हो या Digital या इसका खुद अपना Cable। कोई भी Dual Link वाला Cable इस पर कभी भी Connect नहीं हो सकता था। 
क्योंकि Dual वाले Cable में जो Physical Pins होती थी वो Single Link वाले Port में Insert नहीं हो पाती थी क्योंकि वहां पर Holes ही नहीं होते थे।
digital visual interface in hindi


अब बात करते हैं कन्ज्यूमर लेवल की प्राब्लम के बारे में-
कभी-कभी यूजर के साथ ऐसा होता था कि उसके Motherboard पर DVI का Analog वाला Port है, लेकिन Monitor पर केवल VGA Port है, तो ऐसे में उस यूजर को Problem हो जाती थी। 

हालांकि मार्केट में बहुत सारे Adapter आते हैं जिसकी मदद से DVI to VGA or VGA to DVI किया जा सकता है।
कभी कभी ऐसा भी होता था कि Monitor पर DVI का Digital Port है, लेकिन Motherboard पर VGA है, तो इस Condition में आप कभी भी किसी Adapter की मदद से DVI to VGA or VGA to DVi नहीं कर सकते हैं। क्योंकि वहां पर Analog का Support दिया ही नहीं गया होता था।

तो इसी प्रकार की दिक्कतें आया करती थी। Monitor पर Port है तो Motherboard पर नहीं है, Motherboard पर है तो Monitor पर नहीं है या है भी तो दोनों एक दूसरे से अलग हैं तो ऐसे में यूजर बहुत परेशान हो जाता था। उसके लिए ये सब बहुत ही Confusing होता था।
ये सारी जानकारियां हर यूजर को नहीं होती हैं। और न ही वो इन सब बातों पर ध्यान देते हैं। तो ऐसे में मिस्टेक होना आम बात होती है।

digital visual interface in hindi

Conclusion

DVI के इतने सारे Versions में यूजर उलझ जाता था। और परेशान हो जाता था। इसलिए यूजर इस Interface से किनारा करने लगे। और यही कारण था कि लोग DVI के बजाय VGA को Consider करना पसंद करते थे। और इस कारण से VGA की Popularity बरकरार रहीं और DVI उतना Popular नहीं हो पाया।

आज के समय में DVI का यूज बहुत ही कम लगभग न के बराबर है। 
लेकिन यदि आप फिर भी इसे परचेज करना चाहते हैं या इसे यूज करना चाहते हैं तो आप DVI-I Dual Link को ही Consider करें। क्योंकि ये उन सभी में Best है। और ये भी ध्यान दें कि ये Port दोनों जगह होना चाहिए।

उम्मीद करता हूँ कि DVI से सम्बन्धित जो भी जानकारियां यहां दी गई हैं आपको जरूर समझ आई होंगी।
यदि पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसे शेयर करें ताकि ये जानकारी दुसरो तक भी पहुंच पायें।
यदि कोई सवाल या सुझाव हो तो नीचे कमेण्ट करें।

नोट-हमारे अगले पोस्ट का टापिक HDMI है। तो उसे भी जरूर देखें।

पोस्ट पर अपना कीमती वक्त देने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।

Post a Comment

Please do not enter any type of spam or link in the comment box

Previous Post Next Post