ram kit kya hota hai

What is Ram Kit in Hindi? Ram Kit क्या होता है?

दोस्तों, पिछले पोस्ट में हमने Ram Channel के बारे में विस्तार से जाना था कि Single Channel, Dual Channel, Triple Channel, Quad Channel क्या होता है? आशा करता हूँ कि वो पोस्ट आपको अच्छे से समझ आया होगा।

लेकिन... पिछले पोस्ट में हम Ram Kit के बारे में नहीं जान पाये थे। कारण था कि वो पोस्ट पहले ही लम्बा हो चुका था। और यदि मैं इस Ram Kit को भी उसी में कवर करता तो वो पोस्ट और भी ज्यादा लम्बा और बोरिंग हो जाता। इसलिए मैंने इसे एक अलग पोस्ट में कवर करना ही ठीक समझा। Ram Kit को Shortcut तरीके से नहीं समझा जा सकता। इसलिए इसे विस्तार से समझना बहुत ही जरूरी है।

दोस्तों, जब कभी भी Ram को खरीदने की बात आती है तो Majority लोग इसको खरीदने में गलती कर ही देते हैं। क्योंकि अधिकतर लोगों को इसके बारे में पता ही नहीं होता है और ऐसी Mistake हो जाती है। तो आपसे ऐसी कोई Mistake न हो इसलिए आज के इस पोस्ट में हम जानेंगे कि Ram Kit क्या होता है? और कैसे काम करता है?
तो चलिए जानते हैं-

मार्केट में Consumer Level पर 2 प्रकार से Ram उपलब्ध हैं-


1. Individual 

2. Kit


दोनों के बीच में क्या अन्तर है? (What is the difference between Individual Ram & Kit?) आइये समझ लेते हैं-


What is Individual Ram? Individual Ram क्या होता है?

Individual Ram जैसा कि नाम से ही पता चल रहा है कि अलग-अलग Ram या Single Stick। Individual Ram में आपको जितने भी Ram की जरूरत हो आप ले सकते हैं। जैसे-आपको 1 Ram की जरूरत है तो आप 1 Ram ले सकते हैं 2 Ram की जरूरत है तो 2 Ram ले सकते हैं 3 Ram की जरूरत है तो 3 Ram ले सकते हैं तो इस प्रकार से आपको जितने भी Ram की जरूरत हो आप ले सकते हैं। Individual Ram में आपको किसी भी प्रकार की कोई बॉउंडेशन देखने को नहीं मिलती है।

What is Ram Kit? Ram Kit क्या होता है? 

Ram Kit हमेशा पेयर यानि जोड़ी में आती है जैसे-2, 4, 6, 8। इसमें आपको कभी भी विषम संख्या देखने को नहीं मिलेगी। यदि आपको एक Ram Kit चाहिए तो आपको कम से कम 2 का सेट मिलेगा। यदि आप चाहे कि आपको उसमें एक निकालकर दे दिया जाय तो ऐसा कभी भी नहीं होगा।

दूसरी बात यदि आप मार्केट में Ram Kit खरीदने जाते हैं तो आपको Shop kipper को बताना पड़ेगा कि आपको Ram Kit चाहिए। नहीं तो वो आपको Individual Ram ही देगा। ऐसा इसलिए क्योंकि आज भी Ram Kit खरीदने वालों की संख्या बहुत ही कम है। अधिकतर लोग इसके बारे में जानते ही नहीं है। उन्हें पता ही नहीं होता है कि Ram Kit नाम की भी कोई चीज होती है। 
तो यहां पर आपको अन्तर समझ आ गया होगा कि What is the different between Single/Individual Ram and Kit?

अब Individual Ram और Kit के बारे में विस्तार से जानते हैं।

what is ram kit in hindi

हमें Individual Ram Stick का यूज कैसे और कहां करना चाहिए?
जैसे आपको अपने सिस्टम के लिए एक Ram की जरुरत है तो आप क्या करेंगे? सिम्पली मार्केट जाएगें और किसी भी कम्पनी का 1 Ram जो आपके System में Supported हो, उसे लाकर लगा देंगे। लेकिन बाद में आपको एक और Ram की जरूरत पड़ती है तो आप फिर वहीं काम करेंगे मार्केट जायेंगे और एक नया Ram Stick Buy करके ले आयेंगे। लेकिन यहां पर आपका ये नया Ram आपके पुराने वाले के साथ Work करे ऐसा जरुरी नहीं है।

अक्सर देखा जाता है कि जब दो अलग-अलग Company की Ram को एक साथ लगाया जाता है तो System में कई प्रकार की दिक्कतें आनी शुरू हो जाती हैं। जैसे-System का Boot न होना, Blue Screen का आना, System Hang होना, System Stuck होना, System Restart होना, System Slow चलना इत्यादि। 

Why do two different ram not work together? 
2 अलग-अलग Ram एक साथ Work क्यों नहीं करती है? आइये जानते हैं-
देखिए, जब आप 1 Ram खरीदकर लाते हैं तो आपने देखा होगा कि उस Ram पर एक Sticker लगा होता है जिस पर उस Ram के बारे में कुछ Information लिखी होती है जैसे-Company, Capacity, Frequency,  latency, Voltage etc. लेकिन आप इस चीज पर ध्यान नहीं देते हैं। और आप ही क्या ज्यादातर लोग इस पर ध्यान नहीं देते हैं।

लेकिन बाद में जब आपको और Ram की जरूरत पड़ती है तो आप बिना पुराने वाले को देखे और जाने एक और Ram खरीद लाते हैं। अब चुंकि आपको पहले वाले ही Ram के बारे में कुछ नहीं पता है तो आप कैसे एक ऐसा Ram buy करेंगे जो आपके पुराने वाले के साथ चल जाए। 

क्योंकि सभी Companies एक जैसा Ram नहीं बनाती हैं। हर Company का अपना अलग-अलग तरीका होता है। आप 2 अलग Company के Ram को मिला कर देख सकते हैं दोनों में आपको कुछ न कुछ फर्क जरूर देखने को मिल जाएगा। 

अब Issues क्यों आते हैं इसको एक उदाहरण से समझते हैं-
जैसे मान लेते हैं कि आपके सिस्टम में 1 Corsair की 4 GB की DDR-3 1600 Ram लगी हुई है लेकिन बाद में आपको एक और Ram की जरूरत पड़ी, तो आप मार्केट से एक और Ram खरीद लायें। लेकिन जो Ram आप खरीदकर लाये हैं वो पहले वाले से बिल्कुल अलग है। मान लेते हैं वो Simmtronics का 8 GB 2400 Mhz का Ram है।

ram kit kya hota hai



अब चुंकि दोनों ही Ram Different Company की है तो बाकी चीजें भी Different होंगी। तो ऐसे में दोनों Ram को एक साथ चलाना बहुत ही मुश्किल काम है। वैसे चलते तो नहीं हैं। लेकिन एक बार को मान लेते हैं कि वो दोनों आपस में चल गए तो क्या होगा। 

देखिए, ऐसे केस को हैण्डल करने का काम आपके CPU के Memory Controller का होता है। ऐसे केस में आपका Memory Controller करता क्या है कि दोनों में से जो छोटे साईज का Ram होता है वो बड़े वाले को भी घटाकर उसी के साईज का कर देता है क्योंकि कम वाले Ram को तो वो बढ़ा नहीं सकता है लेकिन बड़े वाले को घटा तो सकता है। और Exactly वो यही करता है। आपका Memory Controller कभी भी ऐसा नहीं कर सकता है कि 1 Ram को 4 GB पर चलाये और एक को 8 GB पर। क्योंकि ऐसा पाॅसिबल ही नहीं है।

अब इस केस में कभी-कभी ऐसा भी होता है कि आपका Memory Controller दोनों को एक साथ चलाने के लिए Ram Frequency को जरूरत से ज्यादा निचले स्तर पर लेकर चला जाता है। यानि छोटे वाले Ram Frequency का आधा का आधा या उससे भी कम। तो ऐसे में आपके सिस्टम के Ram की साईज तो बढ़ जाती है लेकिन Performance बहुत ज्यादा गिर जाता है। और आपका सिस्टम पहले से भी खराब स्थिति में चलने लगता है। 

और जो Ram की साईज वहां दिखाई जाती है जैसे-हमारे केस में (8+4) 12 GB है। आपके केस में कुछ और भी हो सकता है। तो ये जरूरी नहीं है कि आपका सिस्टम उस 12 GB को पूरा यूज करें। 

ध्यान दें-ये सब आपके सिस्टम में तब होगा जब दोनों Ram चल जाए। क्योंकि Mix Ram को Match कराना बहुत ही मुश्किल काम है।

यदि आप Same Ditto Ram Purchase करके लाते हैं तो क्या होगा? What will happen if you use to identical ram together?
यदि आप उसी में का Same Ram Purchase करके लाते हैं Same Company, Same Capacity, Same Frequency, Same Latency, Same Volt का तो Chance होता है कि वो आपस में काम कर जाय और अधिकतर कर ही जाता है। बसर्ते Ram Ditto Same होना चाहिए।

अब कई बार नहीं भी चलता है तो जैसा कि आपको पहले ही बताया जा चुका है कि दोनों Ram एक दुसरे के साथ Work करें इसकी कोई गारण्टी नहीं होती है क्योंकि है तो वो Individual Ram ही। और कम्पनी भी अपने Policy में ये साफ-साफ Mansion किये रहती है कि Ram भले ही एक दम सेम हो लेकिन वो बने है Individually Work करने के। तो यहां पर आपको ये समझ आ गया होगा कि अलग-अलग Ram लगाने पर और Ditto लगाने पर क्या होता है।

What is Ram Kit? Ram Kit क्या होता है? 

what is ram kit in hindi
अब जैसे आपके पास एक Dual Channel Motherboard है। और आपको 1 से ज्यादा Ram Stick का यूज करना हैं तो ऐसे केस में आपको Individual Ram की जगह Kit को Purchase करना चाहिए। क्योंकि Ram Kit में आपको कम्पनी द्वारा इस बात की गारण्टी दी जाती है कि इस Kit को लगाने पर आपको सिस्टम में Ram से सम्बन्धित कोई भी Issue Face करना नहीं पड़ेगा।

तो यदि आपके पास 2 Slots वाला Motherboard है तो आपको 2 Stick वाला Ram Kit लेना चाहिए और यदि 4 Slots वाला Motherboard है तो आपको 4 Stick वाली Ram Kit लेनी चाहिए और यदि आपके पास Triple Channel वाला है तो आपको 6 Stick वाली Ram Kit लेनी चाहिए और यदि Quad Channel वाला है तो आपको 8 Stick वाला Kit लेना चाहिए। 

नोट-यदि आपके पास 8 Sticks वाला Ram Kit है तो आप उसे Quad Channel  में तो यूज कर ही सकते हैं साथ ही साथ आप उसे Triple Channel, Dual Channel Motherboard पर भी यूज कर सकते हैं या 2-2 करके 4 Motherboard में यूज कर सकते हैं बसर्ते वो Motherboard उस Ram को Support करता हो।


What is Ram in Hindi


Ram Kit कैसे बनाई जाती है?

देखिए, दरअसल Ram Kit को भी Individual तरीके से ही बनाया जाता है। लेकिन कम्पनी इसकी पूरी कोशिश करती है कि Ram Nearly Same बन सके। Individual Ram को बनाने के बाद उस पर कुछ भी Extra Work नहीं किया जाता है। लेकिन Kit बनाने के लिए Extra Work किया जाता है। 

जैसे-उन Ram Sticks को बनाने के बाद उसे एक अलग Department में भेज दिया जाता है जहां पर एक Special Engineers की Team उनको Test करने का काम करती हैं। जैसे-Heavy Load Assign करना, Torture Test करना इत्यादि। और जब तक वो हर Test में पास नहीं हो जाते हैं तब तक Test जारी रहता है। हर Test में पास होने के बाद ही उन्हें Certified किया जाता है कि हां, ये Ram पूरी तरह से साथ में काम करने के योग्य है इसे किसी सिस्टम में लगाने पर सिस्टम में Ram को लेकर किसी भी प्रकार की कोई Issue नहीं आयेगी।
इसीलिए Ram Kit Individual की अपेक्षा थोड़ा महंगा मिलता है।

Different Between Individual Ram & Kit

Individual Ram Stick-

Individual Ram Stick आपको मार्केट में आसानी से मिल जाती है।
Individual Ram आप किसी भी कम्पनी का, किसी भी साइज का अपने हिसाब से ले सकते हैं।
Individual Ram आपको Ram Kit के मुकाबले सस्ता मिलता है।
Individual Ram एक साथ काम करें इसकी गारण्टी कम्पनी भी नहीं देती है।
Individual Ram लगाने पर आपको बहुत सारे Issues Face करने पड़ते हैं।
Individual Ram पर Kit के जैसा कोई Extra Work नहीं किया जाता है।

Ram Kit

Ram Kit में आपको जितने भी Sticks मिलेंगे वो सभी Same एक जैसे ही होंगे।
Ram Kit की आपको Demand करनी होती है।
Ram Kit Individual की अपेक्षा महंगा मिलता है।
Ram Kit में कम्पनी द्वारा आपको इस बात की गारण्टी दी जाती है कि वो सभी आपस में वर्क करेंगे।
Ram Kit लगाने पर आपको किसी भी प्रकार की कोई Problem Face नहीं करनी पड़ती है।
Ram Kit बनाने के लिए कम्पनी को उस पर Extra Work करना पड़ता है।

एक और Interesting Question जिसके बारे में भी जानना बहुत ही जरूरी है। 

क्या हम 2 अलग-अलग Ram Kit को एक साथ यूज कर सकते हैं?
Can we use two different ram kit together?या
यदि हम 2 अलग-अलग Ram Kit को यूज करें तो क्या होगा?
What will happen if we use two different ram kit together?

ram kit kya hota hai

देखिए, अभी तक ऊपर बताया जा रहा था कि Individual Ram Stick को यूज करने पर क्या-क्या बातें हो सकती हैं क्या-क्या परेशानियां हो सकती है। 

लेकिन यहां पर तो 2 Individual Ram Kit को यूज करने की बात हो रही है। तो यहां पर आपको Stability के और भी ज्यादा Issues Face करने पड़ सकते हैं। Individual वाले से भी ज्यादा। क्योंकि जब हर कम्पनी की Individual Ram अलग-अलग हो सकती है तो ये तो फिर भी Kit है। ये कैसे एक दूसरे से अलग नहीं होगी।

अब मान लेते हैं कि आपने 2 अलग-अलग Ram Kit अपने Motherboard पर लगा दिया है। तो ऐसे Situation में आपका Memory Controller उन सभी Ram Kit को एक साथ यूज के लिए उन सभी Ram को एक समान करने की कोशिश करेगा। उस सभी की Capacity, Frequency, Latency, Volts इत्यादि को एक बराबर करेगा। ताकि System Stability के Issues ना आये। 

अगर वो ऐसा कर पाता है तो ठीक है नहीं तो आपको Manually सारे सेटिंग्स करने पड़ेंगे, बहुत सारा Experiments करना पड़ेगा, बहुत सारी Troubleshooting करनी पड़ेगी। और तब तक करनी पड़ेगी जब तक की System Stable नहीं हो जाता। इस चक्कर में हो सकता है कि आपको Ram Frequency को एकदम निचले स्तर पर ले जाना पड़े। जैसा कि Individual Ram Stick में होता था। ये सब करने में हो सकता है आपको घण्टों लग जाए।

अब एक बार को मान लेते हैं कि ये सब करने के बाद आपका सिस्टम चलने लगा। लेकिन इसका मतलब ये नहीं है कि सब कुछ ठीक हो गया। अब आपका सिस्टम बिना दिक्कत के टकाटक चलता रहेगा। अब किसी प्रकार कोई दिक्कत नहीं आयेगी। क्योंकि इसकी कोई गारण्टी नहीं है। खुद कम्पनी इसकी गारण्टी नहीं देती है। इसलिए इस बात को आप नोट करके चलिए कि Issues तो आयेगी ही। आज आये या कल या कुछ दिन बाद। आना तय है।

ऐसा किसे करना चाहिए?
देखिए, यदि आप बिगनर है और आपके मन में ये Question है कि Should I use two different ram kit together? तो आपके लिए सीधा सा उत्तर है कि नहीं आपको बिल्कुल नहीं करना चाहिए।

और यदि आप एक New System Built कर रहे हैं और ऐसा करने की सोच रहे हैं कि Can I use two different memory kit? तो आपको भी ऐसा बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए। इसके बजाय आपको अपने जरूरत के अनुसार Ram Kit लेनी चाहिए।

अब एक ऐसा यूजर जिसके पास पहले से ही 2 Ram Kit है और वो दूसरा Buy नहीं चाहता है। तो वो ऐसा कर सकता है। लेकिन इसके लिए उसके पास Computer की Technical Knowledge होनी चाहिए अन्यथा नहीं कर सकता है। क्योंकि ये एक बहुत ही Frustrating Work है। इसको करना सभी के लिए आसान नहीं है। क्योंकि इतना सब कुछ करने के बाद भी जब नहीं चलता है तो लोग Irritate होकर उनमें से किसी एक को निकाल ही देते हैं।

Conclusion-

आज के इस पोस्ट में हमने Individual Ram Vs Ram Kit के बारे में डिटेल में जाना। 
और आपने देखा कि कितना Problem होता है तो एक Normal User या कोई Highest User जिसके पास करने के लिए अपना खुद का वर्क हो तो वो कभी भी ये सब Experiments करना नहीं चाहेगा। वो कभी भी अपना कीमती समय इन सब चीजों को करने में Waste नहीं करेगा। तो ये आपको तय करना है कि आपको क्या करना है और क्या नहीं। 

अब जैसा कि बार-बार ये बताया गया है कि बहुत लोगों का Different Ram चल भी जाता है तो ऐसे में बहुत से लोग होंगे जो ये कहेंगे कि क्या बकवास कर रहा है। मैंने तो ऐसे ही किया है और मेरा चल भी रहा है। तो ये बात बार-बार कही जा रही है कि कभी-कभी काम कर जाता है बिना किसी Issue के। लेकिन उसमें Future में कभी Issue आयेगा ही नहीं इसकी गारण्टी नहीं है। क्योंकि ऐसा मैंने खुद करके देखा है कि 2 अलग कम्पनी की अलग कैपेसिटी की रैम एक साथ वर्क नहीं करती हैं। और In the End आपको उनमें से किसी एक को निकालना ही पड़ता है। 

इसलिए Decision आपका है क्योंकि Computer आपका है। तो ये आपको तय करना है कि आपको एक Stable System चाहिए जो बिना किसी दिक्कत के चलता रहे या एक Unstable System सिस्टम चाहिए जो आपको Problems देता रहे।

आशा करता हूँ कि इस पोस्ट में जो भी बताया गया वो आपको अच्छे से समझ आया होगा।
पोस्ट अच्छी लगी हो तो हमेशा की तरह इसे दुसरे के साथ Share करें। और कोई सवाल या सुझाव हो तो कमेण्ट करें।
मिलता हूँ एक नये पोस्ट के साथ तब तक के लिए नमस्कार।

Post a Comment

Please do not enter any type of spam or link in the comment box

Previous Post Next Post