what-is-bottleneck-in-computer-pc-in-hindi


What is Computer-PC-Bottleneck-in-Hindi?

Can Bottleneck Damage your PC?

What is Processor-CPU bottleneck?

Bottleneck क्या होता है?

Cause of PC-Computer Bottleneck

Is Bottleneck Dangerous for PC-Computer?

दोस्तों, आपको Computer पर बहुत ही जरूरी काम करना है और आपने अपना Computer On किया ताकि आप उस काम को जल्दी से जल्दी कर सकें।

लेकिन जैसे ही आपने अपना Computer या Laptop On किया वो बहुत ही Slow Start हो, बहुत ही Slow Speed से कोई Program Open हो या बहुत ही Slow Speed से कोई File Save हो। यानि सब कुछ Slow-Show हो रहा हो। यानि कुल मिलाकर आपका सिस्टम मर-मर के चल रहा हो। 

तो ऐसे में आपको कितना गुस्सा आता होगा। वो क्षण आपके लिए काफी Irritable होता होगा। और उस वक्त आपका मन बस यही करता होगा कि आप उस सिस्टम को उठाकर पटक दें, तोड़ दें, फेंक दें। क्यों ऐसा ही होता है न।

अच्छा, इस Situation में आपको गुस्सा आना काफी स्वाभाविक है। क्योंकि एक तो आपको जरूरी काम करना है उपर से आपका सिस्टम इस तरह से वर्क कर रहा है। तो ऐसे में आपको गुस्सा नहीं आयेगा तो क्या आयेगा।

अच्छा, इस प्रॉब्लम को फेस करने वाले आप अकेले नहीं है बल्कि आप जैसे बहुत सारे यूजर हैं जो आये दिन इस प्रॉब्लम से जुझते रहते हैं। 

क्योंकि ये प्रॉब्लम एक Computer में आना काफी कामन हो चुका है। यदि आप इसके बारे में पता करने निकले तो आपको अधिकतर Computer में ये प्रॉब्लम बड़े ही आसानी के साथ देखने को मिल जायेगा।


वास्तविकता/सच्चाई-

ये सच है कि इस प्रॉब्लम को लेकर बहुत सारे यूजर परेशान होते हैं लेकिन उनमें से शायद ही कुछ यूजर ऐसे होंगे जो इस प्रॉब्लम को लेकर थोड़ा गंभीर होते हैं, वो इसके बारे में सोचते हैं कि आखिर ऐसा क्यों हो रहा है, क्यों मेरा सिस्टम इस तरह से वर्क कर रहा है? आखिर क्यों मेरे सिस्टम ऐसे वर्क कर रहा है? और वो इसका Proper Solution निकालने की कोशिश करते हैं।

लेकिन.... वही दूसरी तरफ की बात की जाय तो इधर का सीन पहले वाले का जस्ट उल्टा होता है। इधर हालत ये होता है कि यूजर इस प्रॉब्लम को लेकर परेशान तो रहते हैं लेकिन इस समस्या को लेकर गंभीर नहीं होते हैं। वो ये जानने की कोशिश ही नहीं करते हैं कि आखिर ऐसा क्यों हो रहा है। क्यों उनका सिस्टम ऐसे चल रहा है? आखिर क्या कारण हो सकता है? 

बस उन्हें अपने काम करने से मतलब होता है चाहे जैसे हो। अच्छा बहुत सारे यूजर ऐसा भी करते हैं कि जब वो काम करने बैठते हैं और सिस्टम ठीक से वर्क नहीं करता है तो वो उस पर गुस्सा करते हैं, सिस्टम को पीटते-पटकते हैं और किसी तरह से अपना काम निकालने की कोशिश करते हैं और फिर काम निकल जाने के बाद वो भूल जाते हैं। 

लेकिन जब उन्हें फिर से कोई काम पड़ता है तो वो फिर से वहीं सारी प्रक्रिया दोहराते हैं। लेकिन... उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिए क्योंकि बार-बार ऐसा करने से कभी धोखा भी हो जाता है यानि ऐसी हरकतों से आपका Computer Damage भी हो सकता है और फिर लेने के देने पड़ जाते हैं। इसलिए हमें ऐसी हरकतें नहीं करनी चाहिए जिससे की हमारा नुकसान हो। 

ध्यान दें-यदि कोई Problem है तो उसका Solution भी होता है।

तो दोस्तों, आज के इस पोस्ट में हम इन्हीं सब चीजों के बारे में विस्तार से जानेंगे कि एक Computer System में ये चीजें क्यों होती हैं। और वो मुख्य कारण कौन-कौन से हैं।

तो चलिए शुरू करते हैं-

देखिए दोस्तों, यदि आपका Computer या Laptop ठीक से वर्क नहीं कर रहा है Slow चल रहा है, Hang कर रहा है तो उसके एक या दो कारण नहीं हो सकता है बल्कि इसके बहुत सारे कारण हो सकते हैं। और सबसे बड़ी चीज की वो Problem Software और Hardware दोनों की वजह से हो सकता है।


Software 


software-bottleneck-problem

जैसे- Virus Problem, Driver Problem, कोई Particular Software का Problem या फिर Windows Problem इत्यादि। 

आज के समय में यदि किसी Computer यूजर से पूछ लिया जाय कि भाई मेरा Computer बहुत ही बेकार चल रहा है, ठीक से Work नहीं कर रहा है, बहुत ही Hang हो रहा है। भाई बताओ इसका क्या कारण हो सकता है। 

तो सामने वाला यूजर तुरन्त जवाब देगा कि भाई लगता है तुम्हारे Computer में Virus आ गया है। इसीलिए ऐसा हो रहा है। 

वो ऐसा इसलिए कहेगा क्योंकि आज के समय में Virus शब्द काफी कामन हो चुका है और हर यूजर के जुबान पर यही होता है।

निश्चितरूप से सिस्टम के Slow होने का एक कारण Virus भी हो सकता है। लेकिन हमेशा इसी की वजह से हो ऐसा जरूरी नहीं। 

वो सकता है कि वो किसी Particular Software की वजह से हो, हो सकता है वो किसी Driver की वजह से हो या हो सकता है कि वो Windows की ही वजह से हो। तो आपको ये सुनिष्चित करना पड़ेगा कि दिक्कत है किससे।

यदि आपको लगता है कि आपके Computer System में Virus आ गया है तो आप उसे Anti-virus से स्कैन कर Virus Remove करें। 

यदि आपको लगता है कि ये किसी Driver की वजह से है तो आप उस Driver को Uninstall कर फिर से Install करें और यदि वो Driver Old Version या Outdated है तो उसे Update करें। यदि किसी Particular Program की वजह से आपका System Slow है तो उस Program को Re-install करें। शायद समस्या खत्म हो जाय और यदि फिर भी नहीं हो रहा है तो आपको System Format करना पड़ेगा। 

इन चीजों को करने से आपको जरूर Benefit मिलेगा। यदि समस्या Software Level की हुई तो।

तो ये तो हो गई Software Level की बात।


Hardware 


bottleneck-hardware-problem

जैसा कि आपको पहले ही बताया जा चुका है कि सिस्टम के ठीक से न चलने बहुत सारे कारण हो सकते हैं। जिनमें बहुत सारे कारण Software Level के हो सकते हैं जिनके बारे में हम जान चुके हैं और अब हम उन कारणों के बारे में जानेंगे जो Hardware Level के हो सकते हैं।

एक Computer System में Hardware की वजह से बहुत सारे Problem आते हैं और Hardware Level से आये हुए Problem को हम Bottleneck के नाम से जानते हैं।


तो ये Bottleneck क्या होता है? What is Bottleneck?

चलिए इसके बारे में जानते हैं।

आपके सिस्टम में लगा एक या एक से ज्यादा Hardware जो बाकी Hardwares को ठीक से Support न करें, उन्हें ठीक से Work करने न दें, उन्हें अपने Peak पर जाने से रोकें उन्हें अपना Performance दिखाने से रोके, इसे ही Bottleneck कहते है।

Hardware जैसे- CPU, GPU, Ram, Motherboard, Hard Disk, SSD, SMPS, Monitor इत्यादि।

Bottleneck की मेन समस्या इन्हीं में से किसी एक की वजह से ही स्टार्ट होती है।

चलिए Bottleneck को हम एक उदाहरण की मदद से और अच्छे से समझते हैं-

मान लेते हैं कि 5 आदमी हैं जिन्हें 5 Km दूर कहीं जाना है। उन पांचों में से चार के पास Bike है लेकिन एक के पास Cycle है।

और सभी को उस स्थान पर एक साथ जाना है लेकिन वहां पर एक शर्त भी है कि हर आदमी को अपने ही साधन से जाना है कोई किसी की सवारी नहीं कर सकता है। और सभी को उस स्थान तक साइकिल वाले के साथ ही पहुंचना है।

अब बताइये की सीन क्या होगा। वो बाइक वाले चाहे तो कुछ ही मिनटों में उस Destination पर पहुंच सकते हैं लेकिन वो चाहकर भी ऐसा नहीं कर सकते हैं।

क्यों? 

क्योंकि वो साइकिल वाला उन्हें ऐसा करने से रोक रहा है। क्योंकि वो बाईक की बराबरी कभी भी नहीं कर सकता है। लेकिन वो बाइक वाले उन साइकिल वाले की स्पीड से जरूर चल सकते हैं। यानि उन Bikers के पास Bikes होते हुए भी उन्हें उसे साइकिल की यूज करना पड़ेगा। 

तो इस प्रकार वे Bikers अपने Bikes को Bottleneck कर रहे होते हैं। वो चाह कर भी अपने Bikes की Performance को नहीं दिखा सकते हैं वो अपने बाइक्स को उसके पीक पर कभी भी नहीं ले जा सकते हैं। ये सब उस साइकिल वाले की वजह से हो रहा है।

(ध्यान दें - यहां पर आपको समझाने के लिए इस उदाहण को लिया गया।)

ठीक ऐसा ही आपके Computer के साथ भी होता है। यदि आपके Computer में कोई Part कमजोर लगा है तो। 

चलिए बारी-बारी सभी Components के बारे में जानते हैं-


CPU



cpu-bottleneck-in-hindi

CPU आपके Computer का बहुत ही Important Part होता है। इसीलिए इसे Computer का Brain भी कहा जाता है। तो जब एक यूजर अपना System Built करता है तो वो अपने नालेज के हिसाब से सभी चीजों को अच्छा-अच्छा चूज करता है। 

जैसे-अच्छा Ram, अच्छा Hard Disk, अच्छा Motherboard, अच्छा GPU यानि सब कुछ अच्छा-अच्छा, बढ़िया-बढ़िया। 

लेकिन जब बात Processor की आये तो वो यूजर वहां पर थोड़ी नादानी करते हुए या किसी की बातों में आकर एक निम्न स्तर का Processor चुन लें।

बस यही से उसके System में Bottleneck की समस्या शुरू हो जाती है। क्यों? क्योंकि उसके सिस्टम में लगा हर Component बेशक ज्यादा Speed के साथ काम कर सकता है। लेकिन चुंकि उसने एक निम्न स्तर का CPU Choose कर लिया है जिस कारण से वो बाकी Component के साथ Compatible नहीं है इसलिए वो पुरे System के Speed को कम कर देगा। जिस कारण से सिस्टम Slow Work करेगा।

चलिए एक उदाहरण की मदद से समझते हैं-

मान लेते हैं कि आपके Computer में लगे Ram की Speed 4 GB/s है। उसी प्रकार आपके Hard Hard की Speed 2 GB/s की है। लेकिन यहां पर आपके CPU की Speed केवल 1 GB/s की ही है तो ऐसे में जो Final Result आपको देखने को मिलेगा वो होगा 1 GB/s। 

क्यों? 

क्योंकि आपके CPU के Data Process करने की अधिकतम Speed 1 ही GB/s की है और वो चाहकर भी इससे ज्यादा की Speed नहीं दे सकता है। इसलिए आपका Computer Slow Work करेगा। तो ऐसे में आपको अपने CPU को Upgrade करने की जरूरत है। ताकि आप अपने System से Bottleneck को खत्म कर पायें।


Ram


RAM-bottleneck-in-hindi

Processor के बाद आपके Computer की दूसरी सबसे Fast Memory Ram ही होती है जो आपके CPU को काफी तेजी के साथ Data पहुचाने का काम करती है। इसीलिए इसे Random Access Memory कहते हैं। 

अब यहां पर मान लेते हैं कि आपके CPU की Speed 4 GB/s की है। उसी प्रकार आपके Hard Disk की भी Speed 2 GB/s की है। लेकिन यहां पर आपके Ram की Speed सिर्फ 1 ही GB/s की है तो ऐसे में जो Final Result आपको देखने को मिलता है वो होता है 1 GB/s। 

क्यों? 

क्योंकि यहां पर आपके Ram की अधिकतम स्पीड 1 ही GB/s की है और वो चाहकर भी इसके आगे नहीं जा सकता। तो यहां पर आपका सिस्टम आपके Ram की वजह से Slow Work करेगा। तो सिम्पली आपको यहां पर अपने Ram को Upgrade करने की जरूरत है।

यहां पर इमेज लगाना है।


Hard Disk


HARD-DISK-BOTTLENECK-IN-HINDI

ज्यादातर Computer में Bottleneck की समस्या इसी Hard Disk की वजह से ही होती है। क्योंकि Hard Disk एक Mechanical Based Structure होता है जो कभी भी आपके CPU और Ram की बराबरी नहीं कर सकता है।

अब मान लेते हैं कि आपके CPU की Speed 5 GB/s की है। उसी प्रकार आपका Ram की भी Speed 3 GB/s की है। लेकिन यहां पर आपके Hard Disk की Speed सिर्फ 500 MB/s की है तो ऐसे में जो Final Result आपको देखने को मिलता है वो है 500 MB/s।

क्यों?

क्योंकि आपके HDD की अधिकतम Speed यहां पर 500 MB/s की ही है और वो चाहकर भी इसके Beyond नहीं जा सकता है। 

इसलिए आपका Computer Slow चलेगा और चलेगा क्या 101% चलता ही है। तो यहां पर आपको अपने Storage Device को Upgrade करने की जरूरत है। यानि आपको Hard Disk को Replace कर SSD (Solid State Drive) का यूज करना होगा।

यहां पर इमेज लगाना है।


अब बात करते हैं ऐसे Users की जो थोड़ा Heavy Graphical Works करते हैं जैसे- Gaming, Image Editing, Audio-Video Mixing, Rendering या High Definition Video Streaming इत्यादि। 

तो इस Cash में उन्हें एक नई चीज की जरूरत पड़ती है जो इन कामों को बहुत ही आसानी के साथ Handle कर लेता है जो कि है आपका GPU यानि Graphics Processing Unit


GPU


GRAPHICS-CARD-BOTTLENECK-IN-HINDI

Graphics Card को Specially Graphical Work को Handle करने के लिए ही बनाया गया है। जो आपके समस्त Graphical Work को आसानी के साथ Handle कर पाने में सक्षम होता है। चाहे आप अपने सिस्टम पर Gaming करें, Video Editing करें या कोई High Quality Image या Movie देखें। 

तो चलिए जानते हैं कि GPU की वजह से Bottleneck कैसे Create होता है?

मान लेते हैं कि आपके Computer में लगा CPU, Ram Storage Device सब तगड़ा है। सब High Performance देने वाले हैं। लेकिन यहां आपने CPU को एक तगड़ा Graphical Work दे दिया। मान लेते हैं कि आपने कोई बहुत ही High Quality की Game Open/Run कर ली खेलने के लिए। 

अब जैसे ही आप उस गेम को ओपन करेंगे वैसे ही आपका System Busy हो जायेगा या Hang हो जाएगा या बहुत ही Slow Speed के साथ Work करेगा। 

क्यों?

क्योंकि आपने अपने Computer में कोई भी अलग से GPU नहीं लगाया है जो इस काम को आराम से हैण्डल कर सकें। और जो GPU आपके CPU में Inbuilt है वो उतना तगड़ा नहीं है वो सिर्फ Normal Graphical Work के लिए बनाया गया है इसलिए वो उस Game को ठीक से Play नहीं कर पायेगा। और मान लेते हैं कि वो Open हो भी जाय तो वो ठीक से चल नहीं पायेगा Lag करेगा, उसके Frame Drop होंगे। 

तो कुल मिलाकर आपको उस Game को खेलने का मजा नहीं आयेगा। और जब मजा ही नहीं आयेगा तो उस Game को खेलने का कोई फायदा ही नहीं है। 

तो ऐसी स्थिति में आपको एक Graphics Card की Requirement होगी जिसके लग जाने के बाद आपको इस प्रॉबलम से छुटकारा मिल जायेगा। 

वास्तविकता-

मौजूदा समय में बहुत ही कम यूजर Graphics Card को Afford कर पाते हैं क्यों? 

इसका पहला और सबसे बड़ा रिजन जो मुझे लगता है वो ये है कि ये काफी महंगे होते हैं। 

जी हां, Graphics Card काफी Costly होते हैं जो एक आम यूजर के बजट में नहीं आते हैं। और इसीलिए एक कामन यूजर इसे नजरअंदाज भी करता है। 

अब बात करें दूसरे रिजन की तो वो ये है जब एक यूजर का काम CPU में Inbuilt GPU से ही हो जाता है तो वो भला Graphics Card लगवाने की क्यों सोचे, क्यों Graphics Card में Invest करें।

यहां पर इमेज लगाना है।

ये 4 चीजें यानि CPU, Ram, SSD और Graphics Card अगर Balance न हो तो आपके System में Bottleneck की समस्या रहेगी ही रहेगी।


अब बात करते हैं उन Components की जो Direct तो नहीं लेकिन कहीं न कहीं Indirect तरीके से आपके System में Bottleneck जैसी समस्या जरूर पैदा करते हैं।

तो चलिए बारी-बारी उनके भी बारे में जानते हैं-


Motherboard 



motherboard-bottleneck-in-hindi

Motherboard आपके System का एक अभिन्न Part होता है क्योंकि आपके Computer के समस्त Part Motherboard पर ही Connect व Mount किये जाते हैं। और समस्त Data इसी Motherboard से होता हुआ एक Components से दूसरे Components तक पहुंचता है।

तो चलिए जानते हैं कि एक Motherboard किसी Computer को कैसे Bottleneck करता है।

तो देखिए एक Motherboard आपके System को Direct तो नहीं लेकिन Indirect तरीके से जरूर Bottleneck करता है। यानि कहीं न कहीं आपको Limit में रखता है।

जैसे- मान लेते हैं कि आपने एक System Built करवाया और उस वक्त आपने अपने काम के हिसाब से सब कुछ अच्छा चूज किया। लेकिन Motherboard में ज्यादा पैसा न खर्च करते हुए आपने एक Mini या Micro ATX Motherboard Choose कर लिया।

लेकिन बाद में आपने उस System पर Heavy Work करना शुरू कर दिया तो आपको उसमें Ram की कमी महसूस हुई तो आपने उसमे Ram बढ़ाने की सोची ।

लेकिन आपके Motherboard पर केवल 2 ही Slot हैं और दोनों पहले ही से भरे हैं यानि 4-4 GB की 2 Sticks पहले से लगी हुई है। अब आप क्या करेंगे। 

आपके पास 3 Options है 

पहला- या तो आप रहने दें जो लगा है उसी में काम चलायें। 

दुसरा- या तो किसी एक को बाहर निकाल कर उसमें ज्यादा Capacity वाली Ram लगायें। लेकिन ऐसा करने से Ram Mix Match वाली समस्या सामने आयेगी।

और 

तीसरा- या तो आप दोनों को ही बाहर निकाल दें और एक New High Capacity वाली Kit लगायें। लेकिन यदि आप ऐसा करते है तो आपकी दोनों Ram बेकार जायेगी।

Now, What to do?

लेकिन यदि आप ऐसा सोच रहे हैं कि वो दोनों भी रहे और मैं एक और लगा पाउं तो ऐसा नहीं हो सकता। यानि इस Situation में आप कुछ नहीं कर सकते हैं।

तो यहां पर आपका Motherboard आपको कुछ इस तरह से Bottleneck करता है यानि आपको Limit में रखता है।

अब मान लेते हैं कि आपने अपने Computer में Heavy Graphical Work जैसे- Audio-Video Mixing Rendering करना शुरू कर दिया है अब आपको अलग से Graphics Card या Sound Card या कोई और चीज PCI-Express पर लगाने की जरूरत पड़ी और आपके Motherboard पर  x-16 का एक ही Slot है तो ऐसे में आप क्या करेंगे या तो आप Graphics Card लगाये या तो Sound Card। 

तो यहां पर आपका Motherboard कुछ इस प्रकार से Bottleneck Create करता है।

इसीलिए Motherboard या किसी भी Components का चुनाव करते हुए Future को ध्यान में जरूर रखे ताकि आने वाले समय में Upgradation आसानी के साथ किया जा सकें।


SMPS / PSU


smps-bottleneck-in-hindi

आपके Computer में लगा Power Supply Unit भी आपके सिस्टम को Direct तो नहीं लेकिन Indirectly Bottleneck जरूर करता है जैसे-यदि आपका Power Supply Unit कम Watt का हो और उपर से Local हो जिसका कोई Standard न हो तो वो आपको न केवल Bottleneck बल्कि आपके सिस्टम को काफी नुकसान भी पहुचा सकता है।

जैसे-मान लेते हैं कि आपके Computer में एक कम Watt का PSU लगा है जैसे मान लेते हैं 300 Watt का। तो जब आपने अपना System Build करवाया था तो वो उस वक्त के हिसाब से ठीक था लेकिन समय के साथ-साथ आपने उसमें कई चीजें Add करते चले गये।

जैसे- Graphics Card, एक से ज्यादा Hard Disk या एक से ज्यादा SSD, Sound Card इत्यादि। तो इन चीजों को लगाने के बाद कहीं न कहीं इसका Load सीधे तौर पर आपके PSU पर ही पड़ता चला गया। यानि आपके PSU का Power Consumption बढ़ गया।

तो ऐसे में होगा क्या कि जब भी आप कोई Heavy Work अपने System को Assign करेंगे तो ज्यादा Power के Demand के कारण आपका System बिना किसी चेतावनी के या तो किसी Components को Disconnect कर देगा या तो अचानक से बन्द हो जाएगा और आप देखते रह जाएगे।

उसी प्रकार मान लेते हैं कि आपके सिस्टम में लगा SMPS Local Quality का हो और वो अपने Full Potential पर पहले से ही चल रहा हो और बाद में आपने उस पर अन्य किसी Components का भी Load दे दिया। 

तो ऐसे में होगा क्या कि आपका PSU काफी Heat होने लगेगा। और उसी स्थिति में लम्बे समय तक यूज करने के कारण वो जल जायेगा या तो Short कर जायेगा।

और यदि ऐसे में उस Power Supply Unit द्वारा जलते या Short करते समय गलत Power आपके Motherboard तक पहुंच गया तो आप समझ सकते हैं कि आपका कितना नुकसान हो सकता है।

इसलिए Power Supply Unit लेते समय आपको Wattage का खास ख्याल रखना चाहिए। 50-100 Watt ज्यादा ही रहे तो आपके लिए बहुत ही बेहतर रहेगा और यह भी कि वो एक Branded कम्पनी का हो। इससे Risk काफी कम हो जाता है।

तो आपका PSUआपके सिस्टम को ऐसे Bottleneck कर सकता है। 


Monitor


monitor-bottleneck-in-hindi

जैसा कि आप जानते हैं कि आज जमाना काफी High-tech हो चुका है आज सभी चीजें Digital हो चुकी हैं और होती जा रही है। 

जैसे-आज के समय में सभी प्रकार की Pictures, Movie, Games, Audio इत्यादि सब कुछ High Quality की आ रही है। जैसे- Full HD, 2K, 4K, 8K, 3D, 5D इत्यादि।

और उसी को देखते हुए आज मार्केट में एक बढ़कर एक High Quality Monitor भी मार्केट में आ चुके है जो यूजर को एक अच्छा Experience देती हैं। 

और ये Experience खराब न हो इसी के लिए आज मार्केट में एक से बढ़कर एक Heavy Graphics Card भी आ चुके हैं जो इन चीजों को बड़े ही आसानी के साथ हैण्डल कर पाने में सक्षम होते हैं।

अब बात करते हैं कि आपका Monitor कैसे Bottleneck करता है?

मान लेते हैं कि आपका Computer बहुत ही Heavy है सबकुछ आपने बहुत ही अच्छा-अच्छा, बढ़िया-बढ़िया उसमें सेट करवाया है।

लेकिन Monitor आपने एक बहुत ही Normal Type का चुन लिया। जो कि काफी छोटा है और बहुत ही कम Hertz का है।

मान लेते हैं कि वो Monitor 30 Hz का है। और आपके Computer में लगा Graphics Card मान लेते हैं 120 Hz का है।

तो ऐसे में होगा क्या कि उस Graphics Card द्वारा भेजा गया Output आपका Monitor दिखा नहीं पायेगा। 

क्योंकि आपके Monitor की क्षमता Per Second 30 Frame को दिखाने की है और आपका Graphics Card उसे हर सेकेण्ड 120 Frame भेज दे रहा है। जिसे Handle कर पाना आपके Monitor के बस के बाहर है। इसलिए आपका Monitor चाहकर भी 30 Frame से आगे आपको दिखा ही नहीं सकता।

तो ऐसे में आपका Frame  होना शुरू हो जायेगा। आपका सीन रूक-रूक कर या अटक कर चलेगा।

आपने कभी न कभी ऐसा जरूर देखा होगा कि आप कोई Game खेल रहे हैं या कोई High Quality की Movie देख रहे हैं तो आपको उस Picture का कुछ पार्ट आधा कटा-फटा, आधा सीन दायें-बायें दिखने लगता है कभी-कभी तो निगेटिव की तरह भी दिखने लगता है। इसी को Frame Drop होना, Lag करना बोलते हैं। 

तो यदि आपका Monitor काफी निम्न स्तर का है तो आपको ऐसी परेशानी झेलनी पड़ सकती है। और इससे यूजर Experience काफी खराब होता है।

तो एक Monitor का चुनाव करते समय आपको सावधानी बरतनी चाहिए ताकि आपको आगे ऐसी परेशानी झेलनी न पड़े।

नोट-

कभी-कभी ऐसी चीजें आपको Monitor अच्छा होने के बावजूद भी फेस करनी पड़ती है। इसका रिजन आपका CPU या GPU दोनों में से कोई एक हो सकता है।

ऐसा इसलिए होता है क्योंकि हो सकता है कि आप अपने उस CPU या GPU से उसके औकात से बाहर का काम ले रहे हो। 

तो ये थे कुछ कारण जिनके वजह से Bottleneck जैसी Situation आपके Computer में आ सकती है।

अब बात करते हैं कि कैसे पता करें कि आपके Computer का कौन सा Part Bottleneck Create कर रहा है।

तो चलिए इसे भी जानते हैं-

यूं तो Bottleneck को जानने के लिए बहुत सारे तरीके हैं। जैसे-आपको बहुत सारे Softwares मिल जाते हैं जो आपको बता देते हैं कि आपके सिस्टम का कौन सा Parts Bottleneck Create कर रहा है। 

और बहुत सारी Websites भी है जो Online ही Benchmark करके बता देती है कि आपका Particular ये Computer Bottleneck Create कर रहा है।

लेकिन यहां पर हम इसे जानने के लिए सबसे Easy और Common तरीके के बारे में जानेंगे।

Task Manager 


bottleneck-in-hindi

जी हां, Task Manager इसके बारे में आपने बहुत बार सुना और देखा होगा और अनगिनत बार इसका यूज भी किया होगा। तो बस आपको इसी का यूज करना है। 

Task Manager को ओपन करने के लिए आपके पास दो तरीके हैं पहला-आपको अपने Computer में Ctrl+Alt+Dell का बटन एक साथ दबाना है। या Ctrl+Shift+Esc का बटन एक साथ दबाना है। Task Manager आपके सामने आ जायेगा। 

इसके अतिरिक्त आप सिम्पली विण्डोज सर्च बार में Task Manager Type कर देना है और Enter प्रेस करना है। Task Bar Open हो जाएगा। 

तो जैसे आपको सुविधा हो वैसे आप Task Manager को Open कर लें।

अब आपको वहां पर ढेर सारे Option दिखाई देंगे। आपको सिम्पली Performance वाले Option पर Click कर देना है।

अब आपको वहां Side में CPU, Ram, Hard Disk, GPU, Internet इत्यादि का Option दिखाई देगा। वो भी Percentage के साथ।

बस आपको यही पर खास ध्यान देना है।

अब आपको करना ये है कि आपको कोई Heavy Task या Workअपने System को Assign करना है। और तुरन्त आपको Task Manager पर जाना है। और आपको यही देखना है कि उनमें से कौन सा Option सबसे High Percentage पर चल रहा है।

जैसे-उसमें से हो सकता है कि आपका CPU 85% पर चल रहा हो। आपका Ram 30% पर चल रहा हो। हो सकता है कि आपका Hard Disk 40% पर चल रहा हो।

तो बस आपको यही नोटिस करना है कि उनमें से कौन-सा Component सबसे High जा रहा है। तो उसमें से जो Component सबसे High Percentage पर चल रहा होगा। वहीं पार्ट आपके सिस्टम में Bottleneck Create कर रहा होगा।

उदाहरण के तौर पर मान लेते है कि आपका CPU 80-90% या लगभग 100% को Touch करने को हो। और बाकी Components 30-40% पर हो तो यहा पर आपका CPU Bottleneck Create कर रहा है।

उसी प्रकार यही आपका Ram बाकी सभी Parts से काफी High पर चल रहा हो तो ऐसे में आपका Ram Bottleneck Create कर रहा है। और उसी प्रकार यदि आपका HDD सबसे High पर हो तो समझ लीजिए की आपका HDD Problem Create कर रहा है तो बस आपको इसी प्रकार बारी-बारी चेक कर लेना है। 

ध्यान दें-

10-20% उपर नीचे होने से कोई खास फर्क नहीं पड़ता है। लेकिन जब प्रतिशत में 40-60 या उससे भी ज्यादे का फर्क हो तो बिल्कुल फर्क पड़ता है।

क्योंकि वही पार्ट आपके सिस्टम को Bottleneck कर रहा होता है तो बस सिम्पली आपको उस पार्ट को Upgrade करने की जरूरत है।

यह भी ध्यान दें कि कभी कभी कोई File या कोई Program Open होने पर CPU या Ram या कोई अन्य Component कुछ समय के लिए काफी High पर चला जाता है लेकिन थोड़ी देर में वो फिर से नार्मल हो जाता  है तो ऐसे में चिंता करने की कोई बात नहीं है।

लेकिन यदि कोई Component हर समय अपने Highest पर चल रहा हो तो उस पर ध्यान देने की जरुरत है। 

तो कुछ इस प्रकार से आप अपने सिस्टम से Bottleneck को खत्म कर पायेंगे।


Bottleneck को कैसे Fix करें?



how-to-fix-pc-computer-bottleneck-in-hindi

Bottleneck को Fix करने के लिए आपको यही करना है कि आप अपने System को Upgrade करें।

और यदि आप एक नया System Built कर रहे हैं तो आप हर Components को कुछ इस प्रकार से Select करना होगा जो एक दूसरे के साथ Match करें। जो एक दूसरे के साथ Compatible हो। तभी आपका सिस्टम अच्छे से चल पायेगा। और तभी आप अपने सिस्टम का आनन्द ले पायेंगे।

थोड़ा देर से ही सही लेकिन पूरी Proper जानकारी करके ही अपना बेस्ट चुनें।

तो अब मुझे लगता है कि आपको Bottleneck के बारे में सभी चीजें अच्छे से समझ आ गई होंगी और आप स्वयं से इस चीज को आसानी के साथ समझ पायेंगे।

लेकिन यदि फिर भी आपको कुछ नहीं समझ आया या कोई Doubts है तो आप Comment कर हमें बताये। 

मिलता हूं आपसे एक नये पोस्ट के साथ तक तक के लिए Good Bye।

Post a Comment

Please do not enter any type of spam or link in the comment box

Previous Post Next Post